Digoxin 5mg digoxin 0.25 mg pret

4 stars based on 200 reviews
My skin is incredibly soft and smooth and I no longer have Rosacea pustules and papulas. The slide is treated with a fluorescent antibody reagent and examined under a microscope. Мы с мужем планируем беременность. A label can be on a container when letters, é digoxin 0.5mg/2ml numbers or other characters forming the label are attached, molded or etched into the container itself; a label can be associated with a container when it is present within a receptacle or carrier that also holds the container, e.g., as a package insert. Treatment of patients with thyroid hormone will usually gradually improve the normal function of the heart muscle, digoxin 100 mg however caution is indicated in such instances. Report of four cases and comparison with autoimmune hepatitis. Keeping the amount of antiviral drugs in your body at a constant level is crucial in fighting the virus. The preparation of all these solutions under sterile conditions is readily accomplished by standard pharmaceutical techniques well known to those skilled in the art. Do you need any coding expertise to make your own blog? Bien que ce champignon soit de la même famille P. You just have to know where to buy Flagyl (Metronidazole) without prescription, 7 digoxin 0.5mg/2ml and where they sell the cheap generic analogues of the drug. Os registros documentaram os resultados da gravidez 7 de mulheres expostas ao valaciclovir ou a qualquer formulação de aciclovir 16, o metabólito 33 ativo do valaciclovir.

Digoxin 5mg


The person who infected me was unaware that he had it, digoxin 5mg and he tested negative on a blood test (he probably got it from his mother at birth and never had an outbreak in his life)I’m sure I have HSVI (they did a culture of the fluid from the sores i had during my initial outbreak). naja, digoxin 5mg xanax beim letzten mal hatte ich hammerharte kopfschmerzen dazu. If you have astigmatism, diclofenac ratiopharm 100 mg gel your vision may be blurry at a distance as well as near. Due to clavulanic acid component: two 250mg tabs are not equivalent to one 500mg tab; also, the 250mg tab and the 250mg chewable tab are not interchangeable. Hi Great Article a bit confused in the Server and Forest Prep area. De ene beweert dat het een superpotentiepil is en weer een ander vergelijkt het blauwe pilletje met een 'love drug'. What are antibiotics and which antibiotics are used on plants? Store between 20° and 25°C (68° and 77°F; see USP controlled room temperature). Recently, attention has focused on infection with herpes simplex virus type 1 (HSV-1) as a possible cause because research has found elevated HSV-1 titers in affected patients. Exposed patients benefit from treatment with atropine, digoxin 5mg which competitively inhibits acetylcholine. Även gastrointestinala biverkningar som illamående och diarré var relativt vanliga. It has not been proven yet that gabapentin is an addictive substance. It's important to know whether or not the ear drum is intact before using ear cleaners with added antibiotics. Neurontin is believed to be a factor in at least 261 suicides leading up to 2003. The second calls for us to make reparation for the sins and outrages perpetrated against God's Grace and blasphemies against the Holy Hearts of Jesus and Mary.

Vorteile von Viagra sind eine große Sicherheit, digoxin immune fab 38 mg Erfolgsbilanz und nachgewiesene Nebenwirkungen.

Digoxin tablet 0.25mg


Primary and secondary treatment for Helicobacter pylori in the United States.
digoxin 0.25 mg use
• ^ Agostino PV, digoxin 5mg Plano SA, Golombek DA (June 2007). With medications, fungsi obat digoxin 0.25 mg however, pregnant women should not be in the dark as to the dangers prescription drugs can have on their unborn babies. The wife would always make fish ice cream for her husband and after he had eaten he would specifically ask for this. Highly sensitive to loud sounds and irritable.Anxiety feeling or hypertension- whatever makes your body feel like it's buzzing is the worst. Antibiotic therapy for reduction of infant morbidity after preterm premature rupture of the membranes. The disturbances are related to the acute pharmacological effects of, digoxin .5mg alprazolam and learned responses to, the substance and resolve with time, with complete recovery, except where tissue damage or other complications have arisen.

Digoxin teofarma 0 25 mg/l


Long-term observation in a patient with pseudohypoaldosteronism. merci soyez ouvert et communiqué faite attention a votre santé ! Its micro-encapsulated, acid resistant capsules, are not as important as the marketers of those types of probiotics would like you to believe. While this is an approved drug therapy for this problem, bentyl 20 mg para que es however, newer research shows that this treatment also carries great risk. can cost up to twice as much as it does in other parts of the world, digoxin 5mg so many bargain hunters turn to the Web seeking discounted, name-brand prescription drugs from Canada or other countries. The force gets its name because Fritz London first explained how noble gas atoms could be attracted to each other in 1930. dupa transplant medular) sau la pacientii cu deficit de absorbtie intestinala doza poate fi dublata la 400 mg Zovirax, digoxin 5mg sau se poate recurge la tratamentul intravenos. LASIK may not be recommended for patients with diabetes, rheumatoid arthritis, lupus, glaucoma, herpes infections of the eye, cataracts, disorders of the cornea, and retinal disease. "Vitamin E does not reduce the side-effects of isotretinoin in the treatment of acne vulgaris." Int J Dermatol 2005;44(3):248-51. DDC chelates copper, digoxin 5mg thus impairing the activity of dopamine beta-hydroxylase, an enzyme that catalyzes the metabolism of dopamine to norepinephrine. oral administration of 25 mg/kg bw tritium-labelled TC.

Digoxin zentiva 0 25 mg pret


If you are pregnant or planning to become pregnant, you and your doctor should discuss whether changes to your treatment plan are necessary. Lisinopril wird des Öfteren im Rahmen einer Kombinationstherapie mit Kalziumblockern und Diuretika, olanzapine tablets 10mg auch Wassertabletten genannt, eingenommen.

Experience with fosfomycin for treatment of urinary tract infections due to multidrug-resistant organisms. BIOCHEMICAL PROPERTIES Selegiline is a selective irreversible MAO-B inhibitor.
ç digoxin 0.5mg/2ml
The maximum number of ointment applications should be no more than 5-6 times per day. Money back guarant Order DAPOXETINE Online Without Prescription, Is it safe to buy DAPOXETINE• IMAGES OF DAPOXETINE. These children also have a higher risk of developing diabetes.
buy lanoxin digoxin
Cheap antabuse cash on delivery Compra Antabuse on line in Svizzera antabuse with no prescriptions. You can be living in any country, digoxin order kinetics and we will be able to deliver any medication to your home within very short period of time. the smell, the embarrassment, the pain, the emotion distress, and on top of that I got a stupid hemorrhoids !!

Digoxin 0.25 mg tablets


Klar treffen Sie im Internet auf günstigere Anbieter als wir es sind.

मनोविज्ञान के कुछ रोचक तथ्य

1- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार यदि आप दाहिनी करवट की तरफ सोते हैं तो आपको अपने बाएं करवट की तरफ सोने की तुलना में ज्यादा जल्दी नींद आएगी।

2- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार सिर्फ यह मान लेना कि आप अच्छी तरह से सोए हैं, भले ही आप ठीक तरह से न सोए हों, आपके काम-काज में सुधार लाने के लिए काफी है।

3- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार दिन में कम से कम 5-10 मिनट के लिए संगीत सुनना प्रतिदिन के भावनात्मक तनावों से निपटने में सहायक है।

4- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार शारीरिक स्पर्श आपको स्वस्थ बनाता है। अध्ययनों से पता चलता है कि हाथ मिलाने, गले लगने और हाथों में हाथ लेने से तनाव कम होता है और प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है।

5- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार यदि आपकी मनोदशा अक्सर बिना किसी कारण खुशी से गम में बदलती रहती है, तो यह इस बात का संकेत है कि आप किसी को मिस कर रहे हैं।

6- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार यदि आप किसी को बहुत प्यार करते हैं तो केवल उस व्यक्ति की तस्वीर को देखना ही आपको बहुत से दर्द से छुटकारा पाने में मदद करता है।

7- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार जो लोग सार्वजनिक व भीड़ वाले स्थानों में घूमते समय अपनी जेब में अपना हाथ रखते हैं वे आम तौर पर अंतर्मुखी या शर्मीले होते हैं।

8- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार लोगों का आकर्षक और झूठा व्यवहार हमें आसानी से भ्रमित कर सकता है क्योंकि लोग ईमानदारी से अधिक भरोसा व्यवहार और उसके दिखावे की प्रस्तुति पर करते हैं।

9- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार नकारात्मक विचारों को लिखना और उन्हें कूड़ेदान में फेंकना आपके मूड को बेहतर बनाने का एक मनोवैज्ञानिक उपाय है।

10- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार लोग दूसरों के पीठ पीछे जैसी बातें आपसे करते हैं वे ठीक वैसी ही बातें अन्य लोगों से आपके बारे में करते हैं।

कुछ तुम जैसा कुछ मुझ जैसा

यादों की थोड़ी सी मिट्टी लेकर ,
आज उनसे दो दोस्त बनाना,
कुछ तुम जैसा, कुछ मुझ जैसा।

आज दोस्तों की महफिल में,
फिर से कुछ रंग जमाना,
कुछ तुम जैसा, कुछ मुझ जैसा।

फिर तोड़कर पुतलों की मिट्टी मिला देना,
उससे फिर दो दोस्त बनाना,
कुछ तुम जैसा, कुछ मुझ जैसा।

ताकि तुम में कुछ-कुछ मैं रह जाऊँ,
और मुझ में कुछ-कुछ तुम रह जाओ,
कुछ तुम जैसा, कुछ मुझ जैसा।

आज फिर से पुरानी यादों को खोलकर,
उसमें से दो चेहरे निकालना,
कुछ तुम जैसा कुछ मुझ जैसा।

कुछ बातें जो दूसरों की नजर में हमें बोरिंग बनाती हैं

1- जरूरत से ज्यादा बात करना किसी की नजर में आपको अनाकर्षक और बोरिंग बनाता है। बोलना खुद को अभिव्यक्त करने का सबसे सशक्त माध्यम है पर अति हर चीज की बुरी होती है। यह बात हमारे बोलने पर भी लागू होती है।

2-पीठ पीछे दूसरों की बुराई करने से हमेशा बचना चाहिए। यह आपकी कमजोरी का संकेत है। यह निश्चित रूप से दूसरों की नजर में आपके आकर्षण को कम कर सकता है।

3. हीन भावना और लो कॉन्फिडेंस एक और कारक है जो दूसरों की नजर में आपके व्यक्तित्व को अनाकर्षक बनाता है। कोई भी ऐसे व्यक्ति के आसपास होना पसंद नहीं करता है जो खुद के बारे में ही अच्छा महसूस न करे।

4 अपनी ही दुनिया में खोए रहना, खुद से बातें करना एक हद तक अच्छा है पर सिर्फ अपनी ही दुनिया में खोए रहना और सामने वाले की उपेक्षा करना आपके व्यक्तित्व की नकारात्मक विशेषता है जो दूसरों की नजर में आपको बोरिंग और अनाकर्षक बनाती है।

5.अपनी बातों पर कायम न रहना, यदि आप अपने कहे पर कायम नहीं रह सकते हैं तो बेहतर है कि दूसरों से वादा मत कीजिए क्योंकि यदि आप ऐसा करने में विफल रहते हैं, तो आपको ‘अविश्वसनीय’ के रूप में लेबल लग जाएगा और कोई भी अविश्वसनीय व्यक्ति को आकर्षक नहीं पाता है।

6- हर किसी आकर्षक लगने वाली महिला या लड़की के साथ फ्लर्ट करने से बचिए अगर आप किसी से प्यार करते हैं, तो अपने रिश्ते के प्रति प्रतिबद्ध रहिये और अपने रिश्ते का सम्मान कीजिए। यदि आप बहुत ज्यादा फ्लर्ट करते हैं, तो यह आपको प्रतिष्ठा को धूमिल करता है। एक बुरी इमेज दूसरों की नजरों में आसानी से आपको गिरा सकती है।

7 बहुत ज्यादा कंजूस मत बनिए और बहुत ज्यादा अपव्यय भी मत करिये। यदि आप सुखी जीवन बिताना चाहते हैं तो आपको इन दोनों के बीच संतुलन की आवश्यकता है। आपकी थोड़ी सी उदारता किसी के चेहरे पर मुस्कान ला सकती है। याद रखिए,याद रखिए, ‘शेयरिंग ही केयरिंग ‘ है।

जिंदगी के कुछ मुश्किल सच क्या हैं

1- जीवन में जितनी अधिक असफलताओं का अनुभव आप करेंगे आप उतने ही अधिक परिपक्व हो जाएंगे।

2- भारत जैसे हमारे देश में जहां लोगों का एक बड़ा वर्ग गरीबी और बुनियादी सुविधाओं के बिना रहता है, वहां सबके साथ न्याय होना एक सपने जैसा है।

3- हर जगह कुछ एेसी महिलाएं हैं जो अन्य पुरुष सहकर्मियों से अपना काम निकालने के लिए अपनी सुंदरता और आकर्षण का उपयोग करती हैं।

4- इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कितनी अच्छी चीजें करते हैं, हमेशा कुछ ऐसे लोग होते हैं जो आपको परेशान और पीड़ित देखना चाहते हैं।

5- लोग कभी भी उनके द्वारा दूसरों को पंहुचाए गए नुकसान को नहीं समझेंगे जब तक कि उनके साथ ऐसा नहीं हो जाता है।

6- आप जिस तरह से योजना बनाते हैं, जीवन वैसे कभी नहीं चलता है। यह आपको सर्वोत्तम पुरस्कार प्रदान करने से पहले कठिनतम स्तर पर आपकी परीक्षा लेता है।

7- अधिकांश लोग जीवन के युद्ध के मैदान से तब भागते हैं जब वे अपनी जीत के करीब होते हैं क्योंकि उस समय उनके विश्वास, धैर्य, धीरज और लगन उच्चतम स्तर पर टेस्ट किए जाते हैं।

8- प्रत्येक व्यक्ति के पास अपनी कहानी कहने के लिए होती है, लेकिन हर कोई अपनी कहानी दुनिया को बताने में सक्षम नहीं होता है।

9- झूठ बोलना हमेशा गलत नहीं होता है। कभी-कभी आप किसी को चोट न पहुंचाने के लिए झूठ बोलते हैं।

10- लोग सोचते हैं स्मार्ट काम करने का मतलब कड़ी मेहनत को कम करना है,लेकिन जिंदगी में कुछ भी आसान नहीं होता है कड़ी मेहनत का महत्व कभी कम नहीं होता है।

हम जीवन में प्यार क्यों चाहते हैं

लड़का- मुझे लगता है कि मैं प्रतियोगी परीक्षाओं में अच्छा नहीं कर पाउंगा और मुझे अच्छा स्कोर नहीं मिलेगा।

पिता- निश्चित रूप से, तुम अच्छा करोगे। खुद में विश्वास करो, सभी अनावश्यक गतिविधियों से ध्यान को हटाओ, कड़ी मेहनत करो और सोशल साइट्स एवं टी.वी.पर कम समय बिताओ।

लड़की- मुझे इस खतरनाक बांस के पुल को पार करने से डर लगता है।

लड़का- चिंता मत करो, बस मजबूती से मेरा हाथ पकड़ो हम इस पुल को एक साथ पार कर लेंगे।

लड़की- मैं इस अजनबी शहर में बहुत अकेला महसूस करती हूँ। यहां हर कोई अपने जीवन में व्यस्त है। मुझे अपने शहर और घर की बहुत याद आती है।

मां– कभी अकेला महसूस मत करना, मैं हमेशा तुम्हारे पास हूं चाहे तुम याद करो या न करो तुम हमेशा मेरे ध्यान में रहती हो।

पत्नी- मैं घर और आफिस के दबाव को संभाल नहीं पा रही हूं। मुझे लगता है कि मैं पागल हो जाउंगी।

पति- आफिस से थोडे दिन का ले लो। एक रूटीन तैयार करो। जरूरी काम को प्राथमिकता दो। ध्यान और योग का अभ्यास करो। तुम दबाव का सामना करने में सक्षम होगी।

प्रेमी- मैं एक और नौकरी के इंटरव्यू में असफल रहा हूं। यह हालत बहुत तकलीफ देती है। क्या तुम इस बेरोजगार लड़के के लिए अगले दो वर्षों तक इंतजार करोगी?

प्रेमिका- तुमको अपने सपनों का काम बहुत जल्द मिल जाएगा। मैं सारा जीवन यहां तक कि मरने के बाद भी तुम्हारा इंतज़ार करूँगी।

लड़का- आज रिजल्ट आ गया है। मुझे नौकरी मिल गयी है। जब बेरोजगारी के दौरान पूरी दुनिया मेरे खिलाफ थी, तो तुम अकेली थी जिसे मुझ पर विश्वास था। आज मैंने खुद को साबित कर दिया है।

लड़की- मुझे पता था कि तुम्हें अच्छी नौकरी मिल जाएगी। तुम्हारे पास प्रतिभा, दृढ़ता, रचनात्मकता और सकारात्मक दृष्टिकोण है। तुम जिम्मेदार, केयरिंग और अच्छे इंसान हो।

यह अद्भभुत है जब आप जानते हैं कि आपके जीवन में हमेशा कोई ऐसा व्यक्ति है जो आपकी निराशा को सुनने और आपकी खुशी को साझा करने के लिए हमेशा तैयार होता है। प्यार दिल की धड़कन की तरह है जो आपको जिंदा बनाए रखता है, यह आपको विनम्र बनाता है और जीवन में कुछ हासिल करने के लिए प्रेरित करता है। यह तथ्य है कि इसके आभाव में जीवन मुरझा जाता है। शायद यही कारण है कि जिंदगी में हमें हमेशा प्यार की ज़रूरत पड़ती है।

जीवन में आत्मसम्मान का होना क्यों जरूरी है

एक भिखारी एक स्टेशन पर कटोरा लेकर बैठा हुआ था उसके पास में एक बांसुरी भी ऱखी हुई थी। लोग आते और उनमें से कुछ रूक कर कटोरे में पैसा डालकर आगे बढ़ जाते। एक युवा व्यवसायी उधर से गुजरा और उसने कटोरे मे 50 रूपये डाल दिये, उसके बाद वह ट्रेन मे बैठ गया। ट्रेन चलने ही वाली थी वह कि वह व्यवसायी एकाएक ट्रेन से उतर कर भिखारी के पास लौटा और बांसुरी उठा कर बोला, “मै कुछ धुन सुनूंगा। तुम्हारी बांसुरी की धुनों की कुछ कीमत है, आखिरकार तुम भी एक व्यापारी हो और मै भी।” उसके बाद वह युवा तेजी से ट्रेन मे चढ़ गया।

कुछ वर्षों बाद, वह युवा व्यवसायी एक बिजनेस समारोह में हिस्सा लेने दूसरे शहर गया। उस समारोह में वह भिखारी भी मौजूद था। भिखारी ने उस व्यवसायी को देखते ही पहचान लिया, वह उसके पास जाकर बोला- आप शायद मुझे नही पहचान रहे है, लेकिन मै आपको पहचानता हूँ। उसके बाद उसने उसके साथ घटी उस घटना का जिक्र किया। व्यवसायी ने कहा- तुम्हारे याद दिलाने पर मुझे याद आ रहा है कि तुम स्टेशन पर भीख मांग रहे थे। लेकिन तुम यहाँ सूट और टाई मे क्या कर रहे हो?

भिखारी ने जवाब दिया, आपको शायद मालूम नही है कि आपने मेरे लिए उस दिन क्या किया। मुझे पर दया करने की बजाय आप मेरे साथ सम्मान के साथ पेश आये। आपने मेरी बांसुरी उठाकर कहा कि मेरी धुनों की कुछ कीमत है, आपके जाने के बाद मैँने बहूत सोचा, मै यहाँ क्या कर रहा हूँ? मै भीख क्योँ माँग रहा हूँ? मैने अपनी जिदगी को सँवारने के लिये कुछ अच्छा काम करने का फैसला लिया। मैने अपनी बांसुरी उठायी और घूम-घूम कर अपनी प्रस्तुति देने लगा। धीरे -धीरे मेरी मेहनत रंग लायी, पारखी लोगों की नजर मुझ पर पड़ी और मुझे अच्छा काम मिलने लगा। आज मैं यहां इस समारोह में अपनी प्रस्तुति देने आया हूँ।

मुझे मेरा सम्मान लौटाने के लिये मै आपका तहेदिल से धन्यवाद क्योंकि उस घटना ने मेरी जिंदगी को ही बदल दिया।

आप अपने बारे मे क्या सोचते है? खुद के लिये आप स्वयं क्या राय रखते हैं ? इन सारी चीजो को ही हम अप्रत्यक्ष रूप से आत्मसम्मान कहते हैं। दुसरे लोग हमारे बारे मे क्या सोचते है ये बाते उतनी मायने नहीँ रखती लेकिन आप अपने बारे में क्या सोचते हैं ये बात बहूत मायने रखती है।

यह बात सत्य है कि हम अपने बारे मे जो भी सोचते हैँ, उसका एहसास जाने अनजाने मे दुसरो को भी करा ही देते हैं और इसमे कोई भी शक नही कि इसी कारण की वजह से दूसरे लोग भी हमारे साथ उसी ढंग से पेश आते हैं।

आत्म-सम्मान ही वह वजह है जिससे हमारे अंदर प्रेरणा पैदा होती है। इसलिए आवश्यक है कि हम अपने बारे मे एक बेहतर राय बनाएं और आत्मसम्मान के साथ जीवन जिएं।

हमारे जीवन के कुछ कठोर सच क्या हैं

1- अभी वर्तमान में आप जो जीवन जी रहे हैं वह कई लोगों के लिए एक सपना है। हर किसी के पास अपने जीवन का गुजारा करने के लिए पर्याप्त संसाधन नहीं हैं। हर किसी के पास परिवार और मित्र नहीं हैं जो उनकी परवाह करते हों। हमारे देश में बहुत सारे लोग हैं जो अपनी बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए बहुत कड़ी मेहनत करते हैं।

2- हम चीजों को वैसे नहीं देखते हैं जैसी वे हैं बल्कि हम चीजें को वैसे देखते हैं जैसे हम हैं। सब कुछ हमारी धारणा पर निर्भर करता है। एक ही चीज किसी के लिए सुख तो किसी के लिए दुख का कारण बनती है।

3- जीवन में दूसरों को सलाह देना आसान है पर किसी को विपरीत स्थिति से बाहर निकलने में मदद करना मुश्किल है। किसी को मुश्किल परिस्थितियों से निकालने के लिए सलाह से अधिक भी बहुत कुछ करना पड़ता है।

4- जीवन में सब-कुछ फेयर नहीं होता। यदि आप किसी चीज़ में अच्छे हैं तो हमेशा आपसे भी बेहतर कोई जरूर होगा। इस सत्य को स्वीकार कीजिए और इसके साथ जीना सीखिये।

5- यह दुनिया स्वार्थी है। अधिकांश लोग केवल उसमें रुचि रखते हैं जो वह आपसे प्राप्त कर सकते हैं या फिर जिससे किसी भी तरह से लाभ उठा सकते हैं।

6- आपका बाहरी पर्सनाल्टी बहुत महत्वपूर्ण है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप अंदर से कितने अच्छे हैं। चाहे आपके रिश्तेदार हों या फिर आफिस के सहयोगी, लोग आपको आपके बाहरी व्यक्तित्व के आधार पर जज करेंगे।

7- लोग आपको अपनी प्राथमिकता सूची में बदलते रहते हैं । समय, दूरियां और परिस्थितियां लोगों को प्रभावित करती हैं। इस बात को हम दिल पर ले सकते हैं, लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, यह जीवन है जहां सब-कुछ परिवर्तनशील है।

8- आप अपने जीवन के सबसे कठिन समय में अकेले होंगे और यह समय आपको बुद्धिमान, परिपक्व और निडर बना देगा।

9- कुछ भी हमेशा के लिए रहता है आपकी समस्याएं, आपके आस-पास के लोग, आपका काम, नए रिश्ते सब कुछ किसी न किसी दिन खत्म हो जाएगा।

10- जिंदगी में अक्सर आपका दिमाग क्या सोचता है और आपका दिल क्या चाहता है, वह पूरी तरह से अलग हो सकता है।

सोशल साइक्लोजी के कुछ रोचक तथ्य क्या हैं

1- अपनी आवाज ऊंची मत कीजिए बल्कि अपना तर्क सुधारिए। किसी बहस में सफल होने का सबसे शक्तिशाली तरीका सही प्रश्न पूछना है। यह लोगों को उनके तर्क में त्रुटियों को देखने पर मजबूर कर देता है।

2- लोग आम तौर पर ऐसी चीजों की तलाश करते हैं जो उनकी मौजूदा मान्यताओं की पुष्टि करती है और उन जानकारियों को अनदेखा करते हैं जो उनकी सोच के विपरीत हैं। समाजिक मनोविज्ञान में इसे उम्मीद की पुष्टि के रूप में जाना जाता है।

3- अन्य लोगों की उपस्थिति हमारे व्यवहार पर शक्तिशाली प्रभाव डालती है। जब लोगों को पता होता है कि उन्हें देखा जा रहा है, तो वे बेहतर व्यवहार करते हैं। यहां तक कि दूसरों द्वारा देखे जाने का भ्रम भी लोगों को बेहतर व्यवहार करने के लिए प्रेरित करता है।

4- समाजिक मनोविज्ञान के अनुसार एेसे लोग जो सार्वजनिक स्थानों या भीड़ भरी जगहों पर घूमते समय अपनी जेब में हाथ डाले रखना पसंद करते हैं वे आम तौर पर अंतर्मुखी या शर्मीले होते हैं।

5- समाजिक मनोविज्ञान के अनुसार शर्मीले और अन्तरमुखी स्वभाव के लोगों के पास दूसरों को आब्जर्व करने का महान कौशल होता है, जिसके कारण किसी समस्या के मूल को पहचानने में वे दूसरों की तुलना में अधिक कुशल होते हैं।

6- समाजिक मनोविज्ञान के अनुसार हम सफल और अमीर लोगों को अधिक समझदार और बुद्धिमान मानते हैं और इसके विपरीत को भी सच समझते हैं।

7- समाजिक मनोविज्ञान के अनुसार दूसरों से हमारी उम्मीदें इस बात को प्रभावित करती हैं कि हम दूसरों को कैसे देखते हैं और सोचते हैं कि उन्हें कैसे व्यवहार करना चाहिए।

8- समाजिक मनोविज्ञान के अनुसार दूसरों के बारे में कोई व्यक्ति आपसे क्या बोलता है उस पर ध्यान दीजिए क्योंकि दूसरोंं से वह आपके बारे में ठीक वैसे ही बात करेंगे।

9- समाजिक मनोविज्ञान के अनुसार दूसरों की आकर्षक वेशभूषा और व्यवहार आपको आसानी से भ्रमित कर सकता है क्योंकि आमतौर पर लोग ईमानदारी से अधिक भरोसा वाह्य वेशभूषा और बातों पर करते हैं।

10- समाजिक मनोविज्ञान के अनुसार सोशल मीडिया पर दूसरों की पोस्ट की गयी तस्वीरों को देखने से लोग को उदास महसूस होता है क्योंकि इससे उन्हें विश्वास होता है कि उनके मित्र और परिवार के लोग उनसे ज्यादा खुश हैं। हालांकि तथ्य यह है कि सोशल मीडिया पर पोस्ट करने वाले लोग भी ऐसा ही महसूस करते हैं।

जिन्दगी में हर बार दूसरा मौका नहीं मिलता

अजय कपूर एक बेहतरीन वेब डिजाइनर हैं। उनके क्लाइंट्स उनके काम के मुरीद हैं। उनके पास काम की कोई कमी नहीं है। वह स्वस्थ और सुखी जीवन जी रहे हैं। पर कुछ वर्षों पहले तक उनके जीवन में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा था वह पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ दोनों मोर्चों पर संघर्ष कर रहे थे।

आज से पांच साल पहले की रविवार की उस सुबह को वो कभी भी नहीं भूल सकते जब सुबह के वक्त वो अपने चार वर्ष के बेटे अर्जुन के साथ घर के बाहर लान में फुटबाल खेल रहे थे। गेंद के पीछे भागते हुए अचानक उन्होंने महसूस किया कि वो बुरी तरह हाफं रहे हैं। उनकी सांसें उखड़ रहीं थीं और चेहरा लाल हो गया था। वह बुरी तरह खांस रहे थे।

अजय कपूर की एक बुरी आदत थी जो उनकी सभी अच्छाईयों पर भारी पड़ रही थी। उन्हें धूम्रपान की लत थी। एक दिन में 10-15 सिगरेट पी जाना उनके लिए सामान्य सी बात थी। उनके दिन की शुरुआत सुबह की चाय और सिगरेट के साथ होती थी और अौर अंत रात के खाने के बाद सिगरेट से होता था। इस आदत की शुरुआत कई वर्षों पहले कालेज के समय से हुई थी जब उन्होंने दोस्तों के कहने पर शौक में सिगरेट पीना शुरू किया था। शुरुआत में वो सामान्य सिगरेट पीते थे और अब डिजाइनर सिगरेट पीने लगे थे। उनका यह शौक कब गंभीर लत में बदल गया इसका स्वयं उन्हें भी पता नहीं था।

अजय कपूर की हालत तेजी से बिगड़ती जा रही थी। अब वह जमीन पर गिर गये थे उनकी पत्नी उनके सीने को और उनकी मां उनके पैरों के तलवों को जोर जोर से मल रहीं थीं। उनकी चेतना तेजी से लुप्त होती जा रही थी। थोड़ी ही देर में एम्बुलेंस आ गयी और उन्हें समय रहते अस्पताल पहुंचा दिया गया था। उन्हें दिल का गंभीर दौरा पड़ा था जिसका मुख्य कारण डाक्टर ने अत्यधिक सिगरेट और शराब का सेवन बताया था। उनकी बायोप्सी भी की गई थी जिसकी रिपोर्ट में कैंसर के प्रारंभिक लक्षणों की पुष्टि हुई थी।

अजय अस्पताल के अपने बिस्तर पर शांत लेटे हुए थे। उनकी मुख मुद्रा गंभीर थी उनकी आखें खिड़की के बाहर शून्य में कुछ तलाश रहीं थीं। आज उनका दिल उनसे कुछ कह रहा था एेसा नहीं था कि उनका दिल पहले कुछ नहीं कहता था वो पहले भी उनसे बात करता था पर उनके जीवन में इतना कोलाहल था कि उसकी आवाज उन तक नहीं पहुंच पाती थी। उन्हें याद आ रहा था कि उनकी मां और पत्नी ने न जाने कितनी बार उनसे इस बुरी आदत को छोड़ देने को कहा था पर हर बार उन्होंने उनकी बातों को धुएं में उड़ा दिया था। पहले उन्होंने सिगरेट को पिया था और अब सिगरेट उन्हें पी रही थी।

अजय को अस्पताल से छुट्टी मिल गई थी और वो अपने घर वापस आ गए थे पर उनकी समस्याएं अभी समाप्त नहीं हुईं थीं। उन्हें अभी एक लम्बी लड़ाई लड़नी थी और यह लड़ाई उनकी खुद से थी। वर्षों से जमी हुई आदतें यूं ही नहीं जाती हैं। इंसान का मन बार बार सही गलत कुछ भी लॉजिक देकर उन आदतों के पास वापस लौट जाना चाहता है। इन्हें उखाड़ फेंकने के लिए आवश्यकता होती है दृढ़ इच्छाशक्ति और मनोबल की जो लगातार अभ्यास और संयम से आता है।

कहते हैं इंसान को वक्त सब कुछ सिखा देता है। अजय कपूर को भी वक्त ने सिखा दिया। बीते वक्त की परिस्थितियों और मुश्किलों ने उन्हें मजबूत बना दिया था। लंबे समय तक उन्होंने खुद से संघर्ष किया और अपनी इच्छाशक्ति के बल पर इस बुरी आदत से छुटकारा पा लिया।
सौभाग्यशाली थे अजय कपूर जो समय रहते संभल गए और मौत के मुंह से बाहर निकल आए। यदि आप में भी कोई एेसी बुरी आदत है तो उसे अपनी मजबूत इच्छाशक्ति और मनोबल के सहारे उखाड़ फेंकिये। याद रखिए जिन्दगी में हर किसी को दूसरा मौका नहीं मिलता, हर कोई अजय कपूर की तरह भाग्यशाली नहीं होता।