जिंदगी में हम पैसों के पीछे भागने से खुद को कैसे रोक सकते हैं ?

जीवन में हम पैसोंं के पीछे जितना भागते हैं वह हमसे उतना ही दूर चला जाता है। पैसा जीवन में आवश्यक है लेकिन सब कुछ नहीं है।

पैसे के बिना जीवन सम्भव नहीं। आज के युग में ये मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है। पैसा सब ज़रूरतें पूरी करने का माध्यम है। इंसान को आज की ही नहीं कल की भी चिंता होती है यहां तक कि समझदार जीव भी बुरे समय के लिए भोजन संचित करके रखते हैं।

पैसा भोजन की तरह होता है , हम सभी यह जानते हैं कि बिना भोजन के कोई भी जीवित नहीं रह सकता है। उसी तरीके से बिना पैसे के इस दुनिया में जीवित रहना बहुत मुश्किल है।

लेकिन यह भी जानना उतना ही महत्वपूर्ण है की जरूरत से ज्यादा खाना स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाने की बजाय, स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाता है और इसीलिए हम अपने खाने पर नियंत्रण रखते हैं।

कल्पना कीजिए कि आपको किसी पार्टी में बुलाया गया है और वहां पर तरह- तरह के व्यंजन आपके सामने परोसे गए हैं और आप को इस खाने का कुछ भी पेमेंट नहीं करना है । ऐसी स्थिति में अक्सर खुद को रोक नहीं पाते हैं और जितना आपको खाना चाहिए उससे कई गुना ज्यादा आप खा लेते हैँ। यह जानते हुए भी कि जरूरत से ज्यादा खाना हमारे स्वयं के स्वास्थय के लिए हानिकारक है।

ठीक ऐसे ही, हम जब ऐसी पोजीशन में रहते हैं जहां पर हम पैसा कमा सकते हैं, चाहे वह गलत तरीके से हो या सही तरीके से हो, हम खुद को रोक नहीं पाते हैं।

इसी वजह से दुनिया में ज्यादातर लोग पैसे के पीछे भागते रहते हैं और कभी यह जानने की कोशिश नहीं करते की वह पैसा क्यों कमाना चाहते हैं और वह इस पैसे का क्या इस्तेमाल करेंगें?

रियल लाइफ में पैसा कमाना बहुत मुश्किल होता है। यदि आप बहुत सारा पैसा कमाना चाहते हैं तो आपको अपना समय, अपनी ऊर्जा और यहां तक कि अपना मानसिक संतुलन भी दांव पर लगाना पड़ता है।

बीत गया समय कभी भी वापस नहीं आता,खराब हुआ स्वास्थ्य भी कभी वापस नहीं आता है,जो रिश्ते हम खो देते हैं वह भी वापस नहीं आते हैं जो बुरे कर्म पैसा कमाने में हम करते हैं वह हमारा कभी पीछा नहीं छोड़ते हैं।

आपको सिर्फ इतना पैसा कमाना चाहिए जितना कि जरूरी हो, ताकि आपके पास में पर्याप्त समय और ऊर्जा हो जिससे कि आप अपने जीवन की और भी चीजें जो महत्वपूर्ण और मूल्यवान हैं उनको प्राप्त कर सकें।

किसी ने सच ही कहा है पैसा वह वस्तु है जिससे आप कितना भी कमा लो, कम ही लगता है।

कुछ एेसे काम जो दिखते तो सरल हैं पर होते मुश्किल हैं

1- किसी एेसे व्यक्ति को कुछ समझाने की कोशिश करना जो समझना ही नहीं चाहता है, किसी नासमझ व्यक्ति को समझाया जा सकता है परंतु अपने आप को बहुत अधिक समझदार समझने वाले व्यक्ति को समझाना बहुत मुश्किल काम है।

2- कभी-कभी दूर की चीजें ज्यादा साफ दिखती हैं और पास की चीजें धुंधली नजर आती हैं। इसी तरह हमें अपनी गलतियां नजर नहीं आती परंतु दूसरों की गलतियों पर उंगली उठाना बहुत आसान लगता है। खुद में गलतियां ढूढ़ पाना बहुत मुश्किल काम है।

3- खुद को जान लेना आवश्यक है ताकि भविष्य की एक मज़बूत नींव रखी जा सके। ये तभी सम्भव होगा जब आप प्रयोग करेंगे, कहीं सफल होंगे तो कहीं असफल और आपका यही अनुभव कारगर साबित होगा। खुद से रूबरू होना एक मुश्किल काम है।

4- जिम्मेदारी उठाना,क्योंकि जब आप जिम्मेदारी उठाते हैं तो आपसे कई सारे व्यक्ति जुड़े होते हैं जिनको आपसे उम्मीद होती है और आपके सामने उन उम्मीदों पर खरा उतरने की चुनौती होती है। इसलिए जिम्मेदारी उठाना एक मुश्किल काम है।

5- आगे बढ़ते रहना, आप एक सफलता से संतुष्ट नहीं हो सकते क्योंकि हर सफलता के साथ उम्मीद और बढ़ जाती है और चुनौती और भी बड़ी हो जाती है। इसलिए यह एक कठिन कार्य है।

6- किसी को हँसाना,दूसरों को हँसाना आसान नहीं है एक अच्छा सेंस ऑफ ह्यूमर बहुत बड़ी चीज़ है। खुद का मज़ाक उड़ाने के लिए सच में जिगरा चाहिए होता है। इसलिए यह एक मुश्किल काम है।

7- दुःखी होते हुए भी मुस्कुराना, आंखों के नीचे के काले घेरे बताते हैं कि होठों पर जो मुस्कान है वह झूठी है।

8- दूसरों को सीख देना बहुत सरल है परन्तु अपने द्वारा दी गई शिक्षाओं का स्वयं अनुसरण करना बहुत मुश्किल काम है |

9- क्षमा मांगने के लिए हमे अपने अंदर के अहम को खत्म करना पड़ता है। क्षमा मांगने वाला इंसान रिश्तों की कदर करता है और किसी अपने को खोने से अच्छा हैं अपने अहम को खो देना इसलिए क्षमा मांगना एक मुश्किल काम है।

10- जीवन में सच्चाई और ईमानदारी के मार्ग पर चलना ,यह वास्तव में बहुत आसान लगता हैं परन्तु इस मार्ग पर चलना हर किसी के बस की बात नहीं होती है। इसलिए यह एक कठिन काम है।

जीवन के बारे में लोगों की सबसे बड़ी गलतफ़हमी क्या है?

1- मैं तुम्हारे बिना जी नहीं पाउँगा। हमे ऐसे लगता है कि हम अपने प्रेमी के बिना कभी नहीं जी पाएंगे पर वास्तव में जीवन किसी के लिए भी नहीं रुकता,कोई हो या ना हो, जीवन हमेेशा चलता रहता है।

2- मै सही हूँ बाकी दुनिया गलत है और मैं सब कुछ जानता हूँ दूसरे कुछ भी नही जानते हैं ,यह जीवन की सबसे बड़ी गलतफ़हमी है।

3- मेरे पास अच्छा परिवार है,बंगले हैं,गाडियाँ हैं,मुझे किस चीज की कमी है? इस घमंड में कई लोग अपने से नीचे आर्थिक स्तर के व्यक्ति को अपने से तुच्छ समझते हैं।

4- लोग सोचते हैं कोई बीमारी या दुर्घटना हो भी गई तो मेरे पास उससे निपटने के लिए कई साधन हैं पर समय का ऊँट किस करवट बैठेगा,यह किसी को पता नहीं होता।

5- हम समझते हैं कि अन्य और बहुत सी चीजों की तरह कल के बारे में भी पूर्वानुमान किया जा सकता है जबकि वास्तविकता यह है कि कोई भी नहीं जानता है कि अगले पल क्या होने वाला है।

6- हम समझते हैं कि मैनें जो किया, उसे किसी ने नही देखा लोग कर्म के नियम को हमेशा भूल जाते है। जबकि कर्म का नियम हर समय हर जगह लागू होता है। आप अपने कर्मो से भाग नही सकते हैं।

7- मुझे किसी की जरूरत नहीं है,मै अकेले जिंदगी गुजार लूँगा। हर किसी को कभी ना कभी किसी ना किसी की जरूरत पड़ती ही है परंतु ऐसा देखा गया है कि थोड़े से मतभेद के कारण लोग एक दूसरे का साथ हमेशा के लिए छोड़ देते हैं, ऐसा कहकर कि तुम्हारी मुझे कोई जरूरत नहीं है।

8- पैसे कमाने के बाद सारा तनाव दूर हो जाएगा जिनके पास पैसों की कोई कमी नही है, वो लोग बहुत खुश हैं और दुनिया की सारी परेशानी मेरे पास ही है ।

9- यह मानना कि जीवन में सबसे अच्छी चीजें हमेशा महंगी होती हैं और अमीर लोग आम तौर पर खुश होते हैं।

10- यह मानना कि अपने सपनों को जीने और उन्हें पूरा करने के लिए हमारे पास बहुत समय है।

चला गया भारतीय राजनीति का शिखर पुरूष

google image

श्री अटल बिहारी वाजपेयी को हमेशा एक सज्जन राजनेता, प्रखर वक्ता और एक महान आत्मा के रूप में याद किया जाएगा। इन सबसे बढ़कर वह एक प्रेमपूर्ण, दयालु और महान इंसान थे।

संसद में और सार्वजनिक रैलियों में उनके भाषणों को सुनना लोंगों बहुत खुशी देता था। यहां तक कि उनके विरोधियों ने भी हमेशा उनकी प्रशंसा की और सम्मान किया। उनके पास सबसे कठिन मुद्दों पर भी लगभग सभी को साथ लेने और आम सहमति विकसित करने की अद्भुत क्षमता थी।

प्रधानमंत्री के रूप में उनका 1999-2004 तक का कार्य़काल भारत की स्वर्णिम अवधि के रूप में हमेशा याद किया जाएगा। उन्होंने पोखरण परमाणु परीक्षण से लेकर, कारगिल युद्ध, गोल्डन चतुर्भुज जैसी कई परियोजनाएं शुरू कीं, जिन्होंने भारत के बुनियादी ढांचे को बदल दिया और हर मोर्चे पर मजबूत भारत का निर्माण किया।

उन्हें मानवता के प्रेमी के रूप में याद किया जाएगा जिन्होंने पाकिस्तान के साथ शांति बनाने के लिए अपनी ओर से पूरी कोशिश की और विपक्ष के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध बनाए रखा। उन्होंने सीमावर्ती आतंकवाद और कश्मीर पर चर्चा के लिए 14-16 जुलाई, 2001 से दो दिवसीय आगरा शिखर सम्मेलन की बैठक के लिए तत्कालीन राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को भारत में आमंत्रित किया।

इसके अलावा, वाजपेयी ने 1 9 फरवरी, 1999 को ऐतिहासिक दिल्ली-लाहौर बस के उद्घाटन के साथ भारत और पाकिस्तान के बीच सड़क कनेक्टिविटी कायम करने का प्रयास किया।

हम सब उन्हें बहुत याद करेंगे।

भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।

भारतीय स्वतंत्रता दिवस के बारे में कुछ रोचक तथ्य जिन्हें आपको जानना चाहिय़े

1- उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया, बहरीन और कांगो गणराज्य भारत के साथ 15 अगस्त को अपना स्वतंत्रता दिवस साझा करते हैं।

2- जब 15 अगस्त, 1947 को भारत स्वतंत्र हुआा तब देश का कोई राष्ट्रीय गान नहीं था। यद्यपि जन गण मन को बंगाली भाषा में 1911 में लिखा गया था, पर इसे 1950 से पहले तक राष्ट्रीय गान का दर्जा नहीं मिला था।

3- भारत की आजादी के बाद, पुर्तगाल ने अपने संविधान में संशोधन किया और गोवा को पुर्तगाली राज्य घोषित कर दिया। 19 दिसंबर, 1961 को भारतीय सैनिकों ने गोवा पर हमला किया और भारत में वापस इसका विलय किया।

4- स्वतंत्रता के मुख्य वास्तुकार महात्मा गांधी ने स्वतंत्रता दिवस समारोह में भाग नहीं लिया था। इसके बजाए, उन्होनें कलकत्ता में पूरे दिन उपवास किया और दिन भर प्रार्थना की उन्होनें सांप्रदायिक हिंसा के विरोध में उस दिन उपवास किया था जो देश में व्यापक पैमाने पर हो रही थीं।

5- आजादी के बाद देश के पहले प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू को ग्लोबल स्टाइल आइकन के रूप में माना जाता था, उनके प्रसिद्ध नेहरू जैकेट दुनिया भर में हिट बन गए थे। उन्हें प्रसिद्ध फैशन पत्रिका वोग में भी जगह मिली थी।

6- महान क्रांतिकारी भगत सिंह अनेक अलग-अलग भाषाओं में निष्णात थे। उनका अंग्रेजी, अरबी, फ्रेंच, स्वीडिश, हिंदी, पंजाबी और मुल्तानी पर समान रूप से अधिकार था।

7- आजादी के समय भारत में 562 रियासतें थीं। इन राज्यों में से 560 भारत में स्वेच्छा से शामिल हो गए और शेष दो (जूनागढ़ और हैदराबाद) का सेना द्वारा भारत में विलय हुआ था।

8- आजादी के समय भारतीय रूपया $ 1 के बराबर था। पेट्रोल की कीमत 1.8 रुपये प्रति लीटर थी और सोने 88 रुपये, 62 पैसे प्रति 10 ग्राम था।

पुरूष होने के कुछ साइड इफेक्ट क्या हैं ?

1- एक 27 वर्षीय बेरोजगार भारतीय महिला के पास विकल्प है, घर पर रहने का और किसी एेसे व्यक्ति से शादी करने का जो उसे लक्जरी लाइफ दे सके वहीं दूसरी तरफ एक 27 वर्षीय बेरोजगार भारतीय पुरूष, उसे बहुत चिंता करने की जरूरत है और शायद अगले कुछ सालों के लिए उसे शादी को भूल जाना चाहिए।

2- एक पति के रूप में, एक पिता के रूप में, एक बेटे के रूप में और एक भाई के रूप में आम तौर पर एक पुरुष को परिवार में हर किसी की इच्छा पूरी करनी होती है और खुद की इच्छाओं को मारना पड़ता है।

3- कॉर्पोरेट कल्चर में मौजूद समानता के बावजूद आमतौर पर पुरुषों से अपने महिला समकक्षों की तुलना में कठिन परिस्थितियों में काम करने की उम्मीद जाती है।

4- बारह घंटे काम करना अपने परिवार के लिए दूसरे शहर, देश , दुनिया भर में काम के सिलसिले में भटकते फिरना फिर भी पुरूष को उनके काम के लिए कोई मान्यता नहीं मिलती। कोई भी पुरुष दिवस नहीं मनाता है।

5- यदि आप घर के कामों में हाथ बंटाते हैं तो समाज आपको जज करता है। यदि आप घर घर के कामों में हाथ नहीं बंटाते हैं, तो आपकी पत्नी आपको जज करती है।

6- पिता का जन्मदिन आमतैर पर परिवार में किसी को याद नहीं रहता, भले ही वह सबके जन्मदिन पर हमेशा सर्वश्रेष्ठ उपहार देते हों।

7- पुरूषों को अपने आंसुओं को सबसे कठिन परिस्थितियों में छिपाना होता है ताकि दूसरे अपने सिर को उनके कंधे पर रख कर रो सकें।

8- पुरूषों पर आरोप लगाकर उनके जीवन को बर्बाद करना आसान है, कई बार यह देखा गया है कि उन्हें उन चीज़ों के लिए दोषी ठहराया जाता है जिन्हें उन्होंने किया ही नहीं है।

मनोविज्ञान के कुछ रोचक तथ्य

1- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार यदि आप दाहिनी करवट की तरफ सोते हैं तो आपको अपने बाएं करवट की तरफ सोने की तुलना में ज्यादा जल्दी नींद आएगी।

2- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार सिर्फ यह मान लेना कि आप अच्छी तरह से सोए हैं, भले ही आप ठीक तरह से न सोए हों, आपके काम-काज में सुधार लाने के लिए काफी है।

3- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार दिन में कम से कम 5-10 मिनट के लिए संगीत सुनना प्रतिदिन के भावनात्मक तनावों से निपटने में सहायक है।

4- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार शारीरिक स्पर्श आपको स्वस्थ बनाता है। अध्ययनों से पता चलता है कि हाथ मिलाने, गले लगने और हाथों में हाथ लेने से तनाव कम होता है और प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है।

5- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार यदि आपकी मनोदशा अक्सर बिना किसी कारण खुशी से गम में बदलती रहती है, तो यह इस बात का संकेत है कि आप किसी को मिस कर रहे हैं।

6- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार यदि आप किसी को बहुत प्यार करते हैं तो केवल उस व्यक्ति की तस्वीर को देखना ही आपको बहुत से दर्द से छुटकारा पाने में मदद करता है।

7- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार जो लोग सार्वजनिक व भीड़ वाले स्थानों में घूमते समय अपनी जेब में अपना हाथ रखते हैं वे आम तौर पर अंतर्मुखी या शर्मीले होते हैं।

8- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार लोगों का आकर्षक और झूठा व्यवहार हमें आसानी से भ्रमित कर सकता है क्योंकि लोग ईमानदारी से अधिक भरोसा व्यवहार और उसके दिखावे की प्रस्तुति पर करते हैं।

9- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार नकारात्मक विचारों को लिखना और उन्हें कूड़ेदान में फेंकना आपके मूड को बेहतर बनाने का एक मनोवैज्ञानिक उपाय है।

10- ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार लोग दूसरों के पीठ पीछे जैसी बातें आपसे करते हैं वे ठीक वैसी ही बातें अन्य लोगों से आपके बारे में करते हैं।

कुछ तुम जैसा कुछ मुझ जैसा

यादों की थोड़ी सी मिट्टी लेकर ,
आज उनसे दो दोस्त बनाना,
कुछ तुम जैसा, कुछ मुझ जैसा।

आज दोस्तों की महफिल में,
फिर से कुछ रंग जमाना,
कुछ तुम जैसा, कुछ मुझ जैसा।

फिर तोड़कर पुतलों की मिट्टी मिला देना,
उससे फिर दो दोस्त बनाना,
कुछ तुम जैसा, कुछ मुझ जैसा।

ताकि तुम में कुछ-कुछ मैं रह जाऊँ,
और मुझ में कुछ-कुछ तुम रह जाओ,
कुछ तुम जैसा, कुछ मुझ जैसा।

आज फिर से पुरानी यादों को खोलकर,
उसमें से दो चेहरे निकालना,
कुछ तुम जैसा कुछ मुझ जैसा।

जिंदगी के कुछ मुश्किल सच क्या हैं

1- जीवन में जितनी अधिक असफलताओं का अनुभव आप करेंगे आप उतने ही अधिक परिपक्व हो जाएंगे।

2- भारत जैसे हमारे देश में जहां लोगों का एक बड़ा वर्ग गरीबी और बुनियादी सुविधाओं के बिना रहता है, वहां सबके साथ न्याय होना एक सपने जैसा है।

3- हर जगह कुछ एेसी महिलाएं हैं जो अन्य पुरुष सहकर्मियों से अपना काम निकालने के लिए अपनी सुंदरता और आकर्षण का उपयोग करती हैं।

4- इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कितनी अच्छी चीजें करते हैं, हमेशा कुछ ऐसे लोग होते हैं जो आपको परेशान और पीड़ित देखना चाहते हैं।

5- लोग कभी भी उनके द्वारा दूसरों को पंहुचाए गए नुकसान को नहीं समझेंगे जब तक कि उनके साथ ऐसा नहीं हो जाता है।

6- आप जिस तरह से योजना बनाते हैं, जीवन वैसे कभी नहीं चलता है। यह आपको सर्वोत्तम पुरस्कार प्रदान करने से पहले कठिनतम स्तर पर आपकी परीक्षा लेता है।

7- अधिकांश लोग जीवन के युद्ध के मैदान से तब भागते हैं जब वे अपनी जीत के करीब होते हैं क्योंकि उस समय उनके विश्वास, धैर्य, धीरज और लगन उच्चतम स्तर पर टेस्ट किए जाते हैं।

8- प्रत्येक व्यक्ति के पास अपनी कहानी कहने के लिए होती है, लेकिन हर कोई अपनी कहानी दुनिया को बताने में सक्षम नहीं होता है।

9- झूठ बोलना हमेशा गलत नहीं होता है। कभी-कभी आप किसी को चोट न पहुंचाने के लिए झूठ बोलते हैं।

10- लोग सोचते हैं स्मार्ट काम करने का मतलब कड़ी मेहनत को कम करना है,लेकिन जिंदगी में कुछ भी आसान नहीं होता है कड़ी मेहनत का महत्व कभी कम नहीं होता है।

हम जीवन में प्यार क्यों चाहते हैं

लड़का- मुझे लगता है कि मैं प्रतियोगी परीक्षाओं में अच्छा नहीं कर पाउंगा और मुझे अच्छा स्कोर नहीं मिलेगा।

पिता- निश्चित रूप से, तुम अच्छा करोगे। खुद में विश्वास करो, सभी अनावश्यक गतिविधियों से ध्यान को हटाओ, कड़ी मेहनत करो और सोशल साइट्स एवं टी.वी.पर कम समय बिताओ।

लड़की- मुझे इस खतरनाक बांस के पुल को पार करने से डर लगता है।

लड़का- चिंता मत करो, बस मजबूती से मेरा हाथ पकड़ो हम इस पुल को एक साथ पार कर लेंगे।

लड़की- मैं इस अजनबी शहर में बहुत अकेला महसूस करती हूँ। यहां हर कोई अपने जीवन में व्यस्त है। मुझे अपने शहर और घर की बहुत याद आती है।

मां– कभी अकेला महसूस मत करना, मैं हमेशा तुम्हारे पास हूं चाहे तुम याद करो या न करो तुम हमेशा मेरे ध्यान में रहती हो।

पत्नी- मैं घर और आफिस के दबाव को संभाल नहीं पा रही हूं। मुझे लगता है कि मैं पागल हो जाउंगी।

पति- आफिस से थोडे दिन का ले लो। एक रूटीन तैयार करो। जरूरी काम को प्राथमिकता दो। ध्यान और योग का अभ्यास करो। तुम दबाव का सामना करने में सक्षम होगी।

प्रेमी- मैं एक और नौकरी के इंटरव्यू में असफल रहा हूं। यह हालत बहुत तकलीफ देती है। क्या तुम इस बेरोजगार लड़के के लिए अगले दो वर्षों तक इंतजार करोगी?

प्रेमिका- तुमको अपने सपनों का काम बहुत जल्द मिल जाएगा। मैं सारा जीवन यहां तक कि मरने के बाद भी तुम्हारा इंतज़ार करूँगी।

लड़का- आज रिजल्ट आ गया है। मुझे नौकरी मिल गयी है। जब बेरोजगारी के दौरान पूरी दुनिया मेरे खिलाफ थी, तो तुम अकेली थी जिसे मुझ पर विश्वास था। आज मैंने खुद को साबित कर दिया है।

लड़की- मुझे पता था कि तुम्हें अच्छी नौकरी मिल जाएगी। तुम्हारे पास प्रतिभा, दृढ़ता, रचनात्मकता और सकारात्मक दृष्टिकोण है। तुम जिम्मेदार, केयरिंग और अच्छे इंसान हो।

यह अद्भभुत है जब आप जानते हैं कि आपके जीवन में हमेशा कोई ऐसा व्यक्ति है जो आपकी निराशा को सुनने और आपकी खुशी को साझा करने के लिए हमेशा तैयार होता है। प्यार दिल की धड़कन की तरह है जो आपको जिंदा बनाए रखता है, यह आपको विनम्र बनाता है और जीवन में कुछ हासिल करने के लिए प्रेरित करता है। यह तथ्य है कि इसके आभाव में जीवन मुरझा जाता है। शायद यही कारण है कि जिंदगी में हमें हमेशा प्यार की ज़रूरत पड़ती है।