खुद पर यकीन होना क्यों जरूरी है

watch

http://euromessengers.org/?biodetd=bin%C3%A4re-optionen-zdf&a96=26 आज जो हमारे पास है वह कल हमारे पास नहीं होने की संभावना ही सारे भय की जड़ है। अपने बुने हुए भय के जाल से बचने की कोशिश हम जीवन भर करते रहते हैं, पूरे जीवन भागदौड़ करते हैं पर अपने बुने हुए भय के बाहर निकल नहीं पाते।

see एक दिन रास्ते में सड़क के किनारे बंधे एक हाथी को देखा,उसके पैरों में रस्सी बंधी थी। यह देखकर आश्चर्य हुआ कि हाथी जैसा विशाल जानवर केवल एक छोटी सी रस्सी से बंधा था। हाथी इस बंधन को जब चाहे तब तोड़ सकता था, लेकिन वो ऐसा नहीं कर रहा था।

follow url जब हाथी के ट्रेनर से पूछा कि तो उसने बताया एेसे हाथियों को बचपन से ही रस्सियों से बांधा जाता है। उस समय इनके पास इतनी शक्ति नहीं होती कि वे इन रस्सियों को तोड़ सकें। बार-बार प्रयास करने के बाद जब ये रस्सियों नहीं टूटती तो इन्हें यकीन हो जाता है कि वे इन रस्सियों को नहीं तोड़ सकते और बड़े होने के बाद भी उनका यह यकीन बना रहता है इसलिए वो रस्सी तोडऩे का प्रयास ही नहीं करते हैं।

go दूसरी तरफ विज्ञान का ऐसा मानना है कि भंवरे उड़ नहीं सकते, लेकिन भंवरे को लगता है कि वो उड़ सकता है, इसलिए वह लगातार कोशिश करता है और बार-बार असफल होने पर भी वह हार नहीं मानता। आखिरकार भंवरा उडऩे में सफल हो ही जाता है।

लोग हमें बताते हैं कि यह मत करो, वो मत करो, तुमसे ये नहीं होगा, वो नहीं होगा। कभी-कभी हम कोशिश भी करते हैं और अगर असफल हो गए तो हमें यकीन हो जाता है कि यह काम नहीं हो पाएगा। फिर धीरे-धीरे यही बातें हमारे विचारों और बिहेवियर को कंट्रोल करने लगती हैं और हम प्रयास करना छोड़ देते हैं।

enter यह सच है कि जीवन में सब कुछ हमारे हाथ में नहीं होता है पर जीवन में सर्वाधिक महत्वपूर्ण है उन बातों पर ध्यान देना जो हमारे हाथ में हैं प्रयास करना ही हमारे वश में है इसलिए हमें ज्यादा सोचना छोड़कर बस प्रयास करते रहना चाहिए और खुद हर परिस्थिति में खुद पर यकीन बनाए रखना चाहिये।

conocer gente de republica checa भंवरा मानता है कि वह उड़ सकता है, इसलिए वह उड़ पाता है जबकि हाथी मानता है कि वह रस्सी नहीं तोड़ सकता, इसलिए वह रस्सी को नहीं तोड़ पाता है। यही बात हमारे जीवन पर भी लागू होती है।

शर्मीला स्वभाव होने के कुछ साइड-इफेक्ट क्या हैं

1- दूसरों के लिए आपको और आपके विकल्पों को समझना मुश्किल होता है। यहां तक कि आपके परिवार के निकटतम सदस्यों और दोस्तों को भी आपके दिमाग के अंदर क्या चल रहा है, इसका पता नहीं होता।

2- किसी चीज़ को जरूरत से ज्यादा सोचना अंतर्मुखी स्वभाव के व्यक्तियों की सबसे बुरी आदतों में से एक है। अधिकतम समय आपके दिमाग में कुछ न कुछ चलता रहता है। आप हमेशा अपने भविष्य, करियर, आदतों और कई दूसरी चीजों के बारे में सोचते रहते हैं।

3- अंतर्मुखी स्वभाव के लोग अपना समय एकांत में बिताना पसंद करते हैं और अक्सर कम बोलने वाले होते हैं। अधिकांश समय इन्हें दूसरों को समक्ष अपनी भावनाओं को व्यक्त करने या कहने में हिचकिचाहट महसूस होती है।

4- दूसरों से मदद लेने के मामले में शर्मीले स्वभाव के लोगों की स्थिति अत्यंत दयनीय होती है। दूसरों की मदद लेने में वे बुरा महसूस करते हैं और कई बार सोचते हैं।

5- जब अंतर्मुखी स्वभाव के लोगों के मन में कोई संदेह होता है तो वे सीधे सवाल नहीं पूछते हैं, वे केवल यह सोचते हैं कि उन्हें पूछना चाहिए या नहीं, फिर कुछ बार सोचने के बाद वे इसे छोड़ने का फैसला करते हैं और अन्य स्रोतोंं के माध्यम से अपने डाउट क्लीयर करते हैं।

6- अंतर्मुखी स्वभाव के लोग जानते हैं कि लोग उन्हें छोटी-छोटी बातों में बेवकूफ बनाने की कोशिश करते हैं फिर भी वे इसे लेकर चिंतित नहीं होते क्योंकि वे बहस करना पसंद नहीं करते हैं। दूसरों से धोखा खाना उनकी अक्षमता नहीं है बल्कि यह दूसरों पर हर बार भरोसा करने और माफ कर देने की उनके दिल की दयालुता है।

7- शर्मीले स्वभाव के लोग सबसे दुर्भाग्यशाली एक तरफा प्रेमी होते हैं। यहां तक कि उनके सबसे अच्छे दोस्त को भी पता नहीं होता कि वो प्यार में हैं।

8- अंतर्मुखी और शर्मीले स्वभाव वालों के पास कई भावनाओं के लिए एक ही चेहरा होता है क्योंकि ये अंदर ही रोते हैं, अंदर ही हंसते हैं, अंदर ही प्यार करते हैं और अंदर ही नफरत करते हैं।

9- अंतर्मुखी और शर्मीले स्वभाव के लोगों के जीवन की कहानी में हर भूमिका के लिए उनके पास बहुत कम लोग होते हैं और जब वे उनमें से किसी को खो देते हैं, तो उन्हें बहुत गहराई से दर्द देता है और उन घावों को ठीक होने में कई साल लग जाते हैं।

10- अंतर्मुखी और शर्मीले स्वभाव के लोगों को असमाजिक,अपनी दुनिया में केंद्रित,अहंकारी और ऐसे अन्य विशेषणों से नवाजा जाता है क्योंकि वे ज्यादा कुछ बोलते नहीं हैं और सामाजिक घटनाओं में शरीक होने से बचते हैं।

कुछ चीजें जिंदगीं में जिन्हें करने का प्रयास हमें नहीं करना चाहिए

1- कभी भी सिर्फ लोगों को प्रभावित करने के लिए कर्ज लेकर कार या अन्य चीजों को मत खरीदिये, बाद में आपको इसके लिए पश्चाताप करना पड़ेगा।

2- अपने आप को दूसरों के तय मानकों के आधार पर कभी जज मत कीजिए। दूसरों के कहने और करने के आधार पे खुद पर संदेह करने के बजाए अपनी ताकत को पहचानिए और कमजोरियों के बारे में स्पष्ट रहिये।

3- लोगों को हर बात के लिए हाँ कभी मत कहिये। जब आप ऐसा करते हैं, तो आप पाएंगे कि आपके पास लोगों की हर बात को पूरा करने के लिए पर्याप्त समय और ऊर्जा नहीं है।

4- लोगों को कभी भी मुफ्त में सलाह मत दीजिए। केवल मांगने पर सलाह दीजिए, याद रखिए दुर्लभ चीजें अधिक कीमती होती हैं।

5- अपने अतीत को हर किसी के साथ साझा मत करिए। अपने अतीत को हर किसी के साथ साझा करने से कुछ देर के लिए आप लोगों की सहानुभूति प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन लंबे समय में यह आपको दूसरों की नजरों में कमजोर साबित कर देगा।

6- असफलता के सबक कभी मत भूलिये। जीतना अच्छा है, लेकिन असफलता बहुत कुछ सिखाती है। कभी मत भूलिये कि आपकी पिछली असफलताओं ने आपको क्या सिखाया है।

7- जिंदगी में कभी उन लोगों को झूठी आशा देने का प्रयास मत करिए, जिनमें आप वास्तव में रुचि नहीं रखते हैं।

8- जिंदगी में किसी को धोखा देने की कोशिश मत करिए। आज आप दूसरों के विश्वास के साथ खेल रहे हैं, लेकिन याद रखिए, कल कर्म आपको इसका सामना करने करने को मजबूर कर देंगे।

9- कभी भी अपनी खुशियों को किसी औरके हाथों में मत सौंप दीजिए, दूसरों को अपने -आप से अधिक महत्वपूर्ण मत होने दीजिए।

10- बहुत अधिक अभिमानी मत बनिये। आत्म सम्मान और अहंकार के बीच की बारीक लाइन को समझिये।

कुछ रोचक मनोवैज्ञानिक तथ्य जिन्हें लोग अक्सर नहीं जानते हैं

1- मनोविज्ञान कहता है कि जो लोग स्वयं झूठ बोलते हैं, वे अक्सर दूसरों के झूठ को पकड़ने में माहिर होते हैं।

2- मनोविज्ञान कहता है कि आप जितनी ज्यादा बात किसी के बारे में करते हैं, उतनी ही अधिक उस व्यक्ति के साथ प्यार में पड़ने की संभावना होती है।

3- मनोविज्ञान कहता है कि जब आप अपने पास किसी चीज़ के होने की लगातार कल्पना करते हैं, तो इस बात की पूरी संभावना है कि अंततः आप उसे खरीद लेंगें।

4- मनोविज्ञान कहता है कि हमारे शरीर की कोशिकाएं हमारे मन की हर बात पर प्रतिक्रिया करती हैं। यही कारण है कि जब हम निगेटिव सोचते हैं तब हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर हो जाती है जिससे हम बीमार महसूस करते हैं।

5- मनोविज्ञान कहता है कि जब आप चुप रहते हैं तो अक्सर इसका मतलब यह है कि आप नहीं सोचते कि दूसरा व्यक्ति आपके विचारों को सुनने के लिए तैयार है।

6- मनोविज्ञान का कहना है कि अक्सर जब आपसे कोई कहता है कि उन्हें आपसे एक प्रश्न पूछना है, तो आपका मस्तिष्क हाल ही में हुई सभी बुरी बातों को याद करने लगता है।

7- मनोविज्ञान कहता है कि जब आप किसी पिछली घटना को याद रखने की कोशिश करते हैं, तो आप वास्तव में उस घटना की बजाए यह याद करने की कोशिश करते हैं कि आखिरी बार आपने इसे कब याद किया था।

8- मनोविज्ञान कहता है कि हममें से कुछ लोग वास्तव में बहुत खुश होने से डरते हैं क्योंकि हमें भय होता है कि कहीं कुछ दुखद घटित न हो जाए।

9- मनोविज्ञान कहता है कि आपका पसंदीदा गीत आपका पसंदीदा इसलिए है क्योंकि इसके साथ आपकी कोई भावनात्मक घटना जुड़ी हुई है।

10- मनोविज्ञान कहता है कि स्मार्ट लोग अक्सर खुद को कम करके आंकते हैं, जबकि अज्ञानी लोग सोचते हैं कि वे शानदार हैं।

जिंदगी में सपने देखना क्यों जरूरी है

1- सपने देखने का अधिकार सबको है। जिंदगी में सपनों का होना उतना ही जरूरी हैं जितनी जरूरी खीर में चीनी का होना है, शायद सपने ही हैं जो पूरे हो या न हों पर दिल के हमेशा करीब होते हैं।

2- हकीकत अक्सर निर्मम हुआ करती है यह हर सपने, हर ख्वाब को कड़ी कसौटी पर आजमाती है और जो सपना उस पर खरा नहीं उतरता उसे बिखरकर टूटने में ज्यादा वक्त नहीं लगता है।

3- सपने टूटने का मतलब ये कभी नहीं होता कि वो बेकार थे, दरअसल इस दुनिया के अपने कुछ उसूल और नियम हैं और अपने सपनों को जीने के लिए हर किसी को उन शर्तों को पूरा करना पड़ता है।

4- सफल होने और हार जाने में फर्क बस इतना ही है कि आप अपनी शर्तों पे जिए। सही या गलत कुछ नहीं है फर्क बस नजरिए का है।

5- जो दूसरों की नज़र में बेकार है वह आपकी नज़र में उपयोगी है और जो आपकी नज़र में गलत है दूसरों को अक्सर उसे गले लगाने में कोई गुरेज़ नहीं होता है।

6- यदि आपका भी कोई सपना है, आपके पास भी कोई हुनर है तो उसको मरने मत दीजिए। जो भी परिस्थितियों जिंदगी में आपको मिली हों उनसे संघर्ष कीजिए और अपने सपने को जीना शुरू कीजिए।

7- आपके छोटे – छोटे कदम भी आपको मंजिल की ओर ले जाएंगे। इसलिए प्रयास करना, कदम उठाना, परिस्थितियां से जूझना मत छोड़िए।

8- इतिहास गवाह है कि जो चीजों और घटनाओं को लेकर उदार रहा और जिसने दिल और दिमाग के दरवाजे खुले रखे सपने पूरे उसी के हुए।

9- खुद को उदार बनाइए और चीजों को आत्मसात करना सीखिए क्या पता किसी मोड़ पर इतिहास आप के ही इंतजार में हो।

10- जिंदगी में सपने देखना कभी मत छोड़िये क्योंकि सपने कभी मरते नहीं हैं।

कड़ी मेहनत या फिर किस्मत- सफलता के लिए क्या ज्यादा जरूरी है ?

1- कड़ी मेहनत सीढ़ियों की तरह है और किस्मत लिफ्ट की तरह है, कभी-कभी लिफ्ट फेल हो सकती है लेकिन सीढ़ियांं हमेशा आपको ऊपर की तरफ ले जाएंगी।

2- लोग आपसे अधिक प्रतिभाशाली हो सकते हैं लेकिन कड़ी मेहनत ज्यादा या कम करने का किसी के पास कोई बहाना नहीं होता है, जीवन में कड़ी मेहनत करने का अवसर सबके पास समान होता है।

3- सफलता केवल किस्मत से नहीं मिलती है यह लगातार प्रयास, त्याग और अपने काम को प्यार करने से मिलती है।

4- कोई भी आपके प्रयासों और लगन को आपसे छीन नहीं सकता है। यदि आप कड़ी मेहनत करते रहेंगे तो आप सफल होकर रहेगें।

5- किस्मत पासा फेंकने की तरह है और आप इसकी सटीक भविष्यवाणी नहीं कर सकते हैं। यदि सब कुछ आपकी इच्छा के अनुसार घटित होता है तो अच्छा है और यदि एेसा नहीं होता है तो फिर अपने कौशल में सुधार करने के लिए काम करना जारी रखिये।

6- आपको अपनी कड़ी मेहनत का परिणाम हो सकता है तुरंत या फिर निकट भविष्य में ना मिले, लेकिन अंततः इसका परिणाम मिलकर रहेगा क्योंकि मेहनत कभी व्यर्थ नहीं जाती है।

7- किस्मत एेसी चीज़ नहीं है जिसे आप नियंत्रित कर सकते हैं, जबकि कड़ी मेहनत आपके हाथ में है जो आपके चांसेज को बेहतर बनाती है। आप जिसे नियंत्रित नहीं कर सकते हैं उसके बजाय जो आपके नियंत्रण में है उस पर अपने ध्यान को केंद्रित करना हमेशा बेहतर होता है।

8- जीवन की दो चाबियाँ कड़ी मेहनत और किस्मत हैं। जब ये दोनों चाबियाँ एक साथ काम करती हैं, तो आपके जीवन का ताला खुल जाता है।

9- इतिहास गवाह है कि भाग्य को कड़ी मेहनत और दृढ़ संकल्प के सामने कई बार झुकना पड़ा है।

10- कभी-कभी आप अपनी कड़ी मेहनत को शब्दों में व्यक्त नहीं कर पाते हैं और लोग इस गलतफहमी में उसे आपकी किस्मत समझ लेते हैं।

खुद को हर दिन प्रेरित रखने के कुछ टिप्स

1- कोई भी सिवाय आपके आपको पुश नहीं कर सकता है, मंजिल तक पंहुचने के लिए आपको कदम स्वयं ही उठाने होंगें।

2- खुद को नाउम्मीद मत होने दीजिए, हमेशा विश्वास रखिए कि कुछ अच्छा अवश्य ही होगा।

3- याद रखिये कि दुनिया में कुछ भी स्थायी नहीं है, यहां तक कि आपकी तकलीफें और दुख भी स्थायी नहीं हैं।

4- बीते हुए को बिसार देना आसान नहीं है पर जीवन में आगे बढ़ने के लिए यह जरूरी है।

5- सपने देखना मत छोड़िए, आपको नहीं पता है कि आने वाले कल में आपके लिए क्या छिपा है।

6- इस बात से डरना छोड़िये कि क्या गलत हो सकता है बल्कि इस चीज पर ध्यान दीजिए कि क्या सही हो सकता है।

7- यदि आपके पास प्रेम करने वाली फैमिली, सुख-दुख बांटने के लिए दोस्त, खाने के लिए भोजन और सिर के ऊपर छत है तो यकीन मानिए आप जितना समझते हैं उससे कहीं ज्यादा भाग्यशाली हैं।

8- सीखने के लिए केवल सफल लोगों की ओर ही मत देखिये असफलता की कहानियां भी पढ़िए, असफलता सफलता से कहीं ज्यादा सिखाती है।

9- सफल होने से पहले आपको सैकड़ों बार असफल होना पड़ता है, कोशिश करना मत छोड़िये और सही मौके का इंतजार करिये।

10- कठिन परिश्रम सफलता की गारंटी नहीं है लेकिन यह कठिन परिश्रम ही है जो इसे चैलेंजिंग बनाता है।

जीवन की कुछ सबसे अच्छी फीलिंग क्या हैं

1- यह जानना कि आप किसी की खुशी का कारण हैं क्योंकि उन्होंने आपको अपने आंसुओं को पोछने के लिए चुना है, जीवन की कुछ सबसे अच्छी फीलिंग में से एक है।

2- यह जानना कि आप अकेले नहीं हैं और जीवन में आपने जिन चीजों चुना है वे सिंपल लेकिन यूनिक हैं, जीवन की कुछ सबसे अच्छी फीलिंग में से एक है।

3- यह जानना कि आपका दिल दूसरों के लिए प्यार से भरा हुआ है और कोई अपनी मुस्कान के लिए आप पर निर्भर है, जीवन की कुछ सबसे अच्छी फीलिंग में से एक है।

4- यह जानना कि कोई अपने निर्णयों के लिए आपकी तरफ देख रहा है और आपके कार्य किसी का भविष्य बना सकते हैं, जीवन की कुछ सबसे अच्छी फीलिंग में से एक है।

5- जब आप से पूरी तरह अनजान कोई व्यक्ति अचानक आपकी तारीफ करता है, तो यह जीवन की कुछ सबसे अच्छी फीलिंग में से एक है।

6- जब आप बदले में कुछ की उम्मीद किए बिना दूसरों की मदद करते हैं, तो यह जीवन की कुछ सबसे अच्छी फीलिंग में से एक है।

7- संघर्ष के कई सालों के बाद जब आप अंततः अपने माता-पिता को आरामदायक जीवनशैली देने के लिए पर्याप्त कमाई करने में सक्षम होते हैं, तो यह जीवन की कुछ सबसे अच्छी फीलिंग में से एक है।

8- दूसरों की आर्थिक या अन्य रूप में सहायता करना और किसी के सपनों को सच करने में मदद करना,जीवन की कुछ सबसे अच्छी फीलिंग में से एक है।

9- जब आप गाड़ी चला रहे हों और ठंडी हवा जब आपके चेहरे से गुजरती है,तो यह जीवन की कुछ सबसे अच्छी फीलिंग में से एक है।

10- अपने प्रियजनों के चेहरों को मुस्कुराते हुए देखना जब उन्हें आप स्पेशल महसूस कराते हैं, यह जीवन की कुछ सबसे अच्छी फीलिंग में से एक है।

मानवीय पर्सनाल्टी के कुछ रोचक तथ्य जिन्हें हमें जानना चाहिए

1- मुस्कुराते रहिये, यह आपके चेहरे की सुंदरता बढ़ाती है। एक अध्यन के अनुसार आपकी मुस्कुराहट बाहरी मेकअप की तुलना में करीब 69 प्रतिशत ज्यादा आकर्षक है।

2- दूसरे व्यक्ति आपकी तरफ ज्यादा आकर्षित तब होते हैं, जब आपकी बातें उन्हें हंसने या मुस्कुराने पर मजबूर कर देती हैं।

3-आप जितना सोचते हैं, आपके जूते उससे कहीं ज्यादा महत्वपूर्ण हैं। लोग अक्सर दूसरों के जूतों को देखकर उनके बारे में महत्वपूर्ण राय कायम कर लेते हैं।

4- जब आप जम्हाई लेते हैं और आपको देखकर कोई दूसरा व्यक्ति भी जम्हाई लेता है तो इसका मतलब है कि या तो वह व्यक्ति आपको घूर रहा था या फिर उसे आपमें कुछ इंट्रेस्ट है।

5- दूसरों के ऊपर हंसने से पहले दोबारा सोचिये। लोग जिन चीजों पर हंसते हैं उन पर गौर करने से ही उनके करेक्टर के बारे में आप बहुत कुछ अनुमान लगा सकते हैं।

6- जब आप अनिर्णय की स्थिति में हो तो एक सिक्का हवा में उछालिये ,जब सिक्का हवा में होता है तब अक्सर आपको यह महसूस होता है कि आप वास्तव में क्या चाहते हैं।

7- यदि आप यह जानना चाहते हैं कि सामने वाला आपकी बातों पर ध्यान दे रहा है या नहीं, तो बात करते समय अपनी बाहों को मोड़िये यदि सामने वाला भी एेसा करता है तो इसका अर्थ है कि वो आपकी बातों में इंट्रेस्ट ले रहा है।

8- आपके पंसदीदा गाने के बोल अक्सर उन बातों को व्यकत करते हैं जिन्हें दूसरों सेे कहने या अभिव्यक्त करने में आप कठिनाई महसूस करते हैं।

9- अगर आप किसी से कुछ जानना चाहते हैं, तो उनसे एक प्रश्न पूछिए और जब वे उसका उत्तर दे चुके हों, तब चुप रहिये और आंखों के संपर्क को बनाए रखिये। वे आपको कुछ और बताएंगे, लगभग सब कुछ बता देंगे।

10- जब आप किसी को किसी चीज़ के लिए मनाने की कोशिश करते हैं, तो सुनिश्चित करिये कि वे बैठे हों और आप खड़े हों। एेसा करने से उन्हें आप जल्द ही विश्वास होता है।

जीनियस पैदा होते हैं या फिर बनते हैं

एक बार किसान ने कुछ बीजों को बोने के लिए उन्हें अपने खेत में बिखेर रहा था, कुछ बीज खेत से बाहर गिर गए और पक्षियों ने उन्हें खा लिया।

कुछ बीज मेड़ के किनारे उथली मिट्टी पर गिरे, एेसे बीज जल्दी उगने लगे क्योंकि मिट्टी उथली थी लेकिन ये पौधे जल्द ही तेज धूप में कुम्हला गए और चूंकि उनकी जड़ें गहरी नहीं थीं, इसलिए वे जल्द ही मर गए।

कुछ बीज खेत के किनारे उगी हुई झाड़ियों में जा गिरे और उनकी ग्रोथ को खर-पतवार ने दबा दिया।

फिर भी अन्य बीज खेत की उपजाऊ मिट्टी पर गिर गए, और उन्होंने अपनी संख्या से करीब पचास गुना ज्यादा फसल का उत्पादन किया।

सभी इंसान प्रकृति से प्राप्त कुछ विशेष उपहारों के साथ पैदा होते हैं जिन्हें हम उनकी क्षमताएं कह सकते हैं।

ये क्षमताएं बीज की तरह होती हैं जो केवल उपजाऊ मिट्टी में लगाए जाने पर फसल का रूप ले सकती हैं और साथ ही उन्हें पानी, उर्वरक,कीटनाशक और विभिन्न प्रकार से देखभाल की आवश्यकता भी होती है।

जिन लोगों को हम आज जीनियस के रूप में जानते हैं ये वे लोग हैं जिनमें निस्संदेह रचनात्मकता, संगीत, इनोवेशन या दूसरे कुछ प्राकृतिक उपहार पहले से ही मौजूद थे।

हालांकि, दुनिया के हर देश में, हर काल में, लाखों लोगों में ऐसी क्षमताएं मौजूद होती है। लेकिन समस्या यह है कि सही वातावरण की कमी के कारण इन क्षमताओं को उनके द्वारा ठीक से पोषित नहीं किया जाता है।

सोचिए यदि आइंस्टीन भारत में पैदा हुए होते और एक सरकारी स्कूल में पढ़ते, तो क्या कभी वह उन अविष्कारों को अंजाम दे पाते जिनके लिए हम आज उन्हें जानते हैं या फिर सचिन तेंदुलकर इसी अवधि में जर्मनी में पैदा हुए होते, तो क्या फिर क्रिकेट की दुनिया को यह नायाब हीरा मिल पाता।

इसलिए, मेरी समझ से प्रतिभा केवल कुछ असाधारण उपहारों के साथ पैदा नहीं होती है, बल्कि उन्हें सही समय औ सही जगह का भी आशीर्वाद प्राप्त होता है जो उन्हें अपनी क्षमताओं को विकसित करने और अपने उपहारों को दुनिया के साथ साझा करने का मौका देता है।

हर साल लाखों प्रतिभाशाली पैदा होते हैं और वे अज्ञात मर जाते हैं क्योंकि उनके उपहार के बीज कभी उपजाऊ मिट्टी में नहीं लगाए जाते हैं या फिर उन्हें अपने मेंटर द्वारा ठीक से विकसित नहीं किया जाता है।