यूं ही निराश मत होइये

यदि आपके पास कीमती पेन नहीं है, बढ़िया कागज और मेज नहीं है, तो क्या आप कुछ नहीं लिखेंगे? यदि आपके पास अच्छे कपडे और बढ़िया कार नहीं हैं, तो क्या आप उन्नति नहीं करेंगे? यदि आपके घर के इर्द-गिर्द शोर होता है, तो क्या आप कुछ भी नहीं करेंगे? यदि हमारी लाइफ स्टाइल, भोजन आदि ऊंचे स्टैन्डर्ड की नहीं है, तो क्या हम निराशा से भर जायेंगे?

निराश मत होइये यदि हमारे पास बढ़िया मकान, अच्छे कपडे, बढ़िया कार इत्यादि ऐश्वर्य की वस्तुएँ नहीं हैं। ये हमारी उन्नति में बाधक नहीं हैं। उन्नति की मूल वस्तु-महत्वाकाँक्षा है। जो न जाने मन की किस अतल गहराई में छिपी पड़ी है। आत्म-परीक्षण कीजिये और इसे खोजकर निकालिये।

एेसा नहीं है कि हर कोई सफल होना चाहता है , अधिकांश लोग अपनी दुनिया में ही इतने खोए हुए हैं कि उसके अतिरिक्त उन्हें कुछ सोचने की इच्छी ही नहीं होती है। लेकिन वास्तव में सफल लोगों में कुछ हासिल करने की प्रबल इच्छा होती है उनके दिमाग में उनके लक्ष्य स्पष्ट होते हैं।

सफलता की गारंटी कभी नहीं होती है। सफल और असफल लोगों के बीच एक मौलिक अंतर यह है कि जो लोग सफल होते हैं वे नम्रता से अपनी गलतियों को स्वीकार करते हैं एेसे व्यक्ति अपनी गलतियों से सीखते हैं और आगे बढ़ते हैं।

दुनिया को चलाने और सुधारने की जिम्मेदारी हमारी नहीं है। पर जीवन में हमारे जो कर्तव्य हैं उन्हें सच्चे मन से पूरा करने का प्रयास करना निश्चय ही हमारी जिम्मेदारी है। अपने आपको व्यवस्थित करके हम दुनिया के संचालन और सुधार में अपनी ओर से सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं।

सफलता पाने के लिए एक बहुत सरल दृष्टिकोण यह भी है कि यदि आप केवल कुछ चीजों के साथ पर्याप्त मात्रा में खुश हैं तो सफलता आसानी से मिल जाएगी। इसके लिए हमें उन चीज़ों को पाने के लिए खुद को चोट पहुँचाने से बचना चाहिये जिनकी हमें ज़रूरत नहीं है, हम अपनी आवश्यकताओं को सीमित करके भी सफल हो सकते हैं। हांलाकि बहुत से लोग इसे समझ नहीं सकते हैं और आपको अपने दृष्टिकोण से असफल मान सकते हैं, लेकिन सफलता के लिए इस दुनिया में कौन किसकी परवाह करता है?

One thought on “यूं ही निराश मत होइये

Leave a Reply

Your email address will not be published.