आपने अब तक अपनी ज़िन्दगी से क्या सीख हासिल की है?

1-चाहे कोई कितना भी आपसे वादा कर ले कि वो आपको कभी नहीं छोड़ेगा या फिर आपके बिना जीवन की कल्पना तक नहीं कर सकता है, पर वो भी एक दिन आपका साथ छोड़ देंगे। जिंदगी में कुछ भी हमेशा के लिए नहीं रहता है। लोग आपके बिना भी जीवन की बहुत अच्छी तरह से कल्पना कर सकते हैं और जितना कि आप सोचते हैं उससे कहीं बेहतर तरीके से जीवन बिता सकते हैं।

2- लोग गलतियां करते हैं और आपकी भावनाओं के प्रति उदासीन हो सकते हैं। वे कहते हैं, ठीक है, जो मैंने किया था ,मैं उन सब के लिए माफी चाहता हूँ । और वे इसे बहुत ही सामान्य ढंग से लेते हैं जैसे कि कुछ भी हुआ ही नहीं हो। लेकिन फिर भी आप के लिए यह बहुत मुश्किल होता है और आप जिंदगी में आगे बढ़ने में कठिनाई महसूस करते हैं।

3- किसी भी रिश्ते में आवश्यकता से अधिक प्यार या समर्पण जरूरी नहीं है। अधिकता हर चीज़ की बुरी होती है। रिलेशनशिप में कब और कहाँ रूकना है और कहां अपने आप को सीमित करना है यह सीखना बहुत जरूरी है। किसी को भी अपने जीवन की सबसे महत्वपूर्ण और एकमात्र प्राथमिकता मत बनाइये।

4- लोग बदलते हैं, भावनाएं बदलती हैं और प्राथमिकताएं बदलती हैं ।आप कभी भी किसी व्यक्ति से ये अपेक्षा नहीं कर सकते हैं कि वह भी आपके उतना ही समझता है जितना कि आप उसे समझते हैं। कोई आपको अपनी लाइफ से कब रिप्लेस कर देगा कुछ कहा नहीं जा सकता है।

5- लोग हमेशा एक मुखौटा पहनते हैं। एक ही इंसान विभिन्न लोगों को अपना अलग-अलग पक्ष दिखा सकता है। इसलिये यदि आप सोचते हैं कि किसी इंसान के साथ कुछ समय बिताने के बाद आप उन्हें शत प्रतिशत समझते हैं तो यह सही नहीं है। किसी भी इंसान के व्यक्तित्व के बहुत से पहलू होते हैं ,अभी भी बहुत कुछ है जो आपको पता नहीं है।

6- यहां तक कि जब लोग पकड़े जाते हैं या फिर वे गलती को स्वीकार कर सत्य प्रकट करते हैं, तो आप विश्वास कर सकते हैं कि वह कम से कम अपनी गलती तो स्वीकार कर रहा है और मुझे सब कुछ बता रहा है। पर यहां आपको सावधान रहना चाहिये क्योंकि लोग आपको उतनी ही सच्चाई बताते हैं जितना कि वे आपको विश्वास में लेने के लिए जरूरी समझते हैं। अधिकांश मामलों में आपको पूरी सच्चाई नहीं बताएंगे क्योंकि कोई भी पूरी तरह से एक्सपोज़ नहीं होना चाहता है वह सिर्फ एक झटके में अपना मुखौटा गिरने नहीं देना चाहता है, यदि आप अधिक खोदते हैं तो आप अधिक हैरान हो सकते हैं।

7- अंतिम सत्य यही है कि हर इंसान को अपनी लड़ाई खुद लड़नी पड़ती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.