भावनात्मक दर्द आपके जीवन को कैसे बदल देता है?

1.भावनात्मक दर्द का व्यक्तिव पर असर शारीरिक दर्द से अधिक गहरा होता है और आपके व्यवहार पर इसका अधिक प्रभाव पड़ता है।

2.कभी-कभी लोग भावनात्मक चोट की तुलना में शारीरिक रूप से चोट खाना अधिक पसंद करते हैं क्योंकि आप शारीरिक चोट पर मरहम लगा सकते हैं लेकिन आपके दिल पर लगी चोट के लिए कोई मरहम नहीं होती है।

3. सबसे अधिक दर्द का सामना करने वाले अक्सर वह लोग होते हैं जो हमेशा दूसरों को खुश रखने की कोशिश कर रहे होते हैं।

4. भावनात्मक दर्द के दौरान आप अक्सर महसूस करते हैं कि आप अकेले हैं और आपको हर जगह इसके साक्ष्य मिलेते भी रहते हैं।

5. दर्द के खिलाफ गुस्सा एक प्राकृतिक ढाल है। जब कोई कहता है कि ‘मैं तुमसे नफरत करता हूं’ तो उनका वास्तव में मतलब है ‘आपने मुझे चोट पहुंचायी है’।

6. दर्द लोगों को बदलता है जिससे वह दूसरों पर कम विश्वास करते हैंं और अधिक सोचते हैं और खामोश रहना ज्यादा पसंद करते हैं।

7. जब आप बहुत लंबे समय तक दर्द को दिल में रखते हैं तो यह आपके मनोभावों को प्रभावित करता है, फिर जब आपके साथ कुछ बुरा होता है तो आप रोते या शिकायत नहीं करते हैं, आप बस वहां बैठे रहते हैं और कुछ भी महसूस नहीं करते हैं।

8. कभी-कभी दर्द होने पर खुश होने का नाटक करना सिर्फ एक उदाहरण है कि आप एक व्यक्ति के तौर पर कितने मजबूत हैं।

9. दूरियां हमेशा खराब नहीं होती हैं। कभी-कभी थोड़ी दूरी बनाने से लोगों को यह पहचानने में मदद मिलती है कि आप वास्तव में उनके लिए कितना मतलब रखते थे।

10. भावनात्मक दर्द हमेशा सजा नहीं होता या फिर ऐसा कुछ नहीं होता जिसे हमने अनजाने में अपने जीवन में आकर्षित कर लिया हो। कभी-कभी इसके होने का मकसद बस इतना होता है कि जीवन में हम कुछ सीखें और आगे बढें।

दिल ने मांगी है दुआ

जब जीवन में घना अंधेरा होता है और कोई राह नहीं सूझती है तब प्रार्थना से फूटती है प्रकाश की किरण जो डूबते को तिनके का सहारा साबित होकर हमारे टूटे हुए आत्मविश्वास को धीरे-धीरे फिर से जोड़ने का काम करती है।

प्रार्थना हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है। शोध से पता चला है कि सर्जरी के बाद होने वाले घावों के भरने में प्रार्थना मरहम का काम करती है। यह हमारे दिल को मजबूत बनाकर हमारी धड़कनों को सामान्य करती है। प्रार्थना करने से हमारा इम्यूनिटी सिस्टम बेहतर होता है।

प्रार्थना करने से न केवल हमारी एकाग्रता बढ़ती है बल्कि इससे हमें अपने मन में झांकने का मौका मिलता है। इससे हममें सही-गलत में फर्क करने की समझ बढ़ती है और बेचैनी से निजात मिलती है। एक शोध से पता चला है कि जो लोग नियमित रूप से प्रार्थना करते हैं उनमें अवसाद की समस्या कम होती है और वे दूसरों की तुलना में अपनी भावनाओं को बेहतर तरीके से नियंत्रित कर पाते हैं।

प्रार्थना इंसान द्वारा उत्पन्न की जाने वाली ऊर्जा का सबसे सशक्त रूप है। दिल से निकली हुई प्रार्थना कभी निरर्थक नहीं जाती है। विज्ञान भी प्रार्थना की ताकत को मानता है और जिदंगी के अनेक अवसरों पर यह साबित भी हुआ है कि इंसान को दवा के साथ-साथ दुआ की भी जरूरत होती है

जरूरी नहीं है कि प्रार्थना अपने लिए ही की जाए, हम प्रार्थना दूसरों के लिए भी कर सकते हैं। कहते हैं कि दूसरों के लिए की गई दुआ जल्दी कुबूल होती है। प्रार्थना हमें यह अहसास दिलाती है कि हम अकेले नहीं हैं, कहीं कोई है जो हमारा बोझ उठाने में हमारी मदद कर रहा है।

कुछ बातें जो बहुत कीमती हैं

एक 05 वर्ष का लड़का अपनी 3 वर्ष की छोटी बहन के साथ मेले में घूम रहा था। मेले में खिलौने की दुकान के सामने उसकी बहन रूक गई और दुकान की शेल्फ में रखी हुई एक सुंदर सी गुड़िया को निहारने लगी।

लड़का अपनी बहन का हाथ पकड़कर दुकान के अंदर जाकर काउंटर पर बैठे हुए व्यक्ति से बोला अँकल वहां जो गुडिया रखी है न वो मेरी बहन को बहुत पसंद है क्या कीमत है उस गुड़िया की? फिर उसने अपनी जेब में हाथ डालकर 5 रू. का सिक्का निकाला और कहने लगा कि अंकल मेरे पास बस इतने ही पैसे हैं, दुकानदार ने जब कोई जवाब नहीं दिया तो वह लड़का कुछ सोचते हुए अपनी बहन से बोला मुन्नी तुम यहीं रूको मैं अभी आता हूँ।

थोड़ी देर बाद वह लड़का जब वापस आया तो उसके हाथ में एक थैला था उसने आते ही थैला दुकान के काउंटर पर पलट दिया। उस थैले से निकले हुए कागज के छोटे-छोटे टुकड़े काउंटर पर बिखर गए। दुकान का मालिक जो दूर से ही यह सब देख रहा था काउंटर के पास आया और लड़के से बोला कि बेटा ये सब क्या है? लड़के ने कहा अकंल ये नये पैसे हैं जिन्हें मैंने अभी बनाया है।

दुकान का मालिक अधेड़ उम्र का एक सुलझा हुआ व्यक्ति जिसने जीवन में कई उतार-चढ़ाव देखे थे । वह काउंटर पर बैठकर उन कागज के टुकड़ों को एेसे गिनने लगा मानो वो असली के नोट हों, उस लड़के ने उससे पूछा कि अकंल क्या पैसे अभी भी कम हैं?

दुकानदार ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया नहीं बेटा ये पैसे तो गुड़िया की कीमत से भी ज्यादा हैं। एेसा कहते हुए उसने कुछ कागज के टुकड़ों को अपनी जेब में रख लिया और छोटी बच्ची को वह गुड़िया दे दी।

गुड़िया पाकर वह बच्ची खिलखिला उठी, अपनी बहन को खुश देखकर उस लड़के के चेहरे पर प्रसन्नता और सुकुन दिखने लगा उसने दुकानदार का शुक्रिया किया और अपनी बहन का हाथ पकड़कर दुकान से चला गया।

दुकान का मुनीम आश्चर्यचकित होकर यह सारा घटनाक्रम देख रहा था। जब वह छोटा लड़का और उसकी बहन वहां से चले गये तो वह मालिक के पास आया और बोला सेठजी आपने इतनी महंगी गुड़िया केवल कागज के कुछ टुकड़ों के बदले मे दे दी?

सेठजी हंसते हुए बोले मुनीम जी, हमारे लिये ये केवल कागज के टुकड़े हैं पर उस पांच साल के बच्चे के लिये उसका बहुत मूल्य है पांच साल का वह बच्चा समझता है कि कागज के इन टुकड़ों के बदले वह दुनिया में कुछ भी खरीद सकता है, इस उम्र में वो नहीं जानता, कि पैसे क्या होते हैं?

पर जब वह बडा होगा ना, और जब उसे याद आयेगा कि उसने अपने बनाए हुए कागज के टुकड़ों के बदले बहन के लिए गुड़िया खरीदकर दी थी। तब उसे मेरी याद जरुर आयेगी, और फिर वह सोचेगा कि इस दुनिया में अच्छे इंसान भी हैं ।

वह समझेगा का कि जिदंगी में कुछ बातें पैसे भी ज्यादा कीमती होती हैं, यही बात उसके अंदर सकारात्मक सोच बढानेे में मदद करेगी वह भी दूसरों की जरूरत के समय उनकी मदद करेगा और एक अच्छा इंन्सान बनने के लिये प्रेरित होगा। इस तरह यह दुनिया पहले से और बेहतर बन जाएगी।

बड़े अजीब हैं जिंदगी के रंग

कोई मीलों चलता है रोटी कमाने के लिए,

कोई मीलों चलता है उसे पचाने के लिए।

किसी के पास खाने को दो वक्त की रोटी नहीं,

किसी के पास दो रोटी खाने को वक्त नहीं।

कोई अपनों को पाने के लिए सब कुछ छोड़ देता है,

कोई सब कुछ पाने के लिए अपनों को छोड़ देता है।

कोई दौलत कमाने के लिए सेहत खो देता है,

कोई खोई सेहत पाने के लिए कमाई दौलत खो देता है।

कोई जीता ऐसे है कि कभी मरेगा ही नहीं,

कोई मरता ऐसे है मानो कभी जिया ही नहीं।

कोई चुप रहकर भी बहुत कुछ कह जाता है,

कोई बहुत कुछ कहके भी मतलब नही समझा पाता है।

कोई पत्थर मंदिर में जाकर भगवान बन जाता है,

कोई इंसान रोज मंदिर जाकर पत्थर ही रह जाता है।

What seems simple yet complex to do in life?

Speaking truth, speaking the truth is not very difficult, but it is very difficult to choose which people have to speak in front of and what place to speak.

Relationships are very easy to make but getting them to the right place and then it is very difficult to keep them whole life.

In life, we make many decisions every day, but there are some decisions that can change the whole life. Therefore it is very difficult to think and act according to decisions.

Often, we try to recognize the person only from the above appearances and believe in the wrong person. Belief is not wrong, but believing in the wrong person is dangerous, so it is very difficult to recognize the right person.

It is very difficult to accept your mistakes by breaking the gap of your pride and apologizing to the front.

It is very difficult for the person who has hurt your faith and love, and then forgive him and give him the same place again in the heart.

It is very difficult to feel the pain of others and feel happy in others’ happiness.

It is very difficult in life to do the work that is forced to go against the voice of your soul and compelled to do the work

This is a journey of life, fulfilling every single phase and achieving the goals of your life without distraction is difficult but full of excitement.

Accept That You Are Not Everyone’s Cup Of Tea

1- This world is filled with people who, no matter what you do,no matter what you try will simply not like you.

2- However this world is also filled with people who don’t judge you, they love you unconditionally, they are your people.

3- Don’t waste your limited time and single heart in trying to convince those people who are not your people.

4- These people will miss it completely and won’t consider what you are offering to them.

5- Don’t try to convince them to walk your path with you because you will only waste your time and emotional health.

6- You are not for them and they are not for you. Both of you are destined for separate paths of life.

7- Politely wave them along and you also move ahead.

8- Seek to share your path with those who recognize and appreciate your offerings.

9- Be who you are , you are not everyone’s cup of tea and that is ok.

कुछ चीजें जिन्हें जीवन में कर पाना मुश्किल है

जो काम हमें कठिन लगता है उसे करना और फिर उसके परिणाम का इंतजार करना, यह वह समय है जिसे पार करना बहुत कठिन है।

सच बोलना, सच बोलना बहुत मुश्किल काम नहीं है पर किन लोगों के सामने बोलना है और कौन सी जगह बोलना है इसका चुनाव करना बहुत कठिन होता है।

रिश्ते निभाना, रिश्ते बनाना बहुत आसान है पर उन्हें सही मुकाम तक पहुंचा पाना और फिर सारी उम्र निभाना बहुत कठिन है।

जीवन में हम प्रतिदिन छोटे-बड़े अनेक निर्णय लेते रहते हैं, पर कुछ निर्णय ऐसे होते हैं,जो पूरी जिंदगी बदल सकते हैंं। इसलिए सोच समझ कर निर्णय लेना और उस पर अमल कर पाना बहुत मुश्किल होता है।

अक्सर हम ऊपरी दिखावे से ही इंसान को पहचानने की कोशिश करते हैं और गलत इंसान पर विश्वास कर बैठते हैं।विश्वास करना गलत बात नहीं है पर गलत इंसान पर विश्वास करना घातक है इसलिए सही इंसान की पहचा कर पाना बहुत मुश्किल होता है।

अपने अंहकार की खाई को पाटकर अपनी गलतियों को स्वीकार करना और सामने वाले से माफी मांग लेना बहुत मुश्किल होता है।

जिस व्यक्ति ने आपके विश्वास और मन को ठेस पहुंचाई हो, उस इंसान को माफ करके उसे दिल में दोबारा वही स्थान दे पाना बहुत मुश्किल होता है।

दूसरे के दुख में दर्द महसूस करना और दूसरों के सुख में खुशी महसूस कर पाना बहुत कठिन होता है।

अपनी आत्मा की आवाज़ के खिलाफ़ जाकर मजबूर होकर जो काम करना पड़े, उसे करना जीवन में बहुत कठिन होता है।

यह जिंदगी ही एक यात्रा है इसके हर एक पड़ाव को पूरा करना और बिना विचलित हुए अपने जीवन के लक्ष्य को हासिल करना कठिन है लेकिन रोमांच से भरा है।

क्या इस दुनिया मे सीधे इंसान का गलत फायदा उठाया जाता है ?

जिंदगी में अनेक अवसर एेसे आ जाते हैं जो पूरी तरह से अप्रत्याशित और प्राकृतिक नियमों के विपरीत दिखाई देते हैं। एक इंसान जो अच्छे कर्म करता है और बुराई से दूर रहता है उसके ऊपर अचानक एेसी घोर विपत्ति आ जाती है कि मानो उसे किसी बड़े भारी अपराध की सजा मिल रही हो। वहीं एक दूसरा व्यक्ति बुरे से बुरे कर्म करता है पर हर प्रकार के सुख और सौभाग्य उसे प्राप्त होते हैं।

सीधे लोगों का फायदा उठाया जाता है और उन्हें बहुत ज्यादा धोखा भी मिलता है। दिल से साफ और कोमल होने कि वजह से उन्हें दुख भी बहुत होता है। बहुत बार आपकी सरलता को लोग आपकी कमजोरी समझ लेते हैं।

जीवन में एेसे मौकों के आने पर हममें से अधिकांश लोग बहुत भ्रमित हो जाते हैं और अनेक एेसी धारणाएं बना लेते हैं जो जीवन के लिए बहुत घातक सिद्ध होती हैं। कुछ लोग ईश्वर पर कुपित हो जाते हैं और अपनी दुर्दशा के लिए उसे जिम्मेदार ठहराते हैं तो कई नास्तिक हो जाते हैं।

मुश्किल अवसरों पर हमारी एेसी सोच हो जाने का मुख्य कारण भाग्य के संबंध में हमारे मन में जमी हुई गलत धारणाएं हैं। बात को सही ढंग से न समझ पाने के कारण ही हमारे मन में एेसी बातें घर कर जाती हैं।

कुछ लोगों को लगने लगता है कि अब कर्मों को करने का कोई फायदा नहीं जो भाग्य में लिखा होगा सो होकर रहेगा। एेसे अवसरों पर हममें से ज्यादातर लोग भाग्य की वेदी पर कर्मों की बलि चढ़ा देते हैं।

कहते हैं कर्मों की गति गहन होती है जिसे समझ पाना मुश्किल है। किसी विषय की जानकारी न होने एवं गलत जानकारी होने में फर्क होता है। गलत धारणाएं जब हमारे जीवन में घुसकर गहरी पैठ बना लेती हैं तो जीवन का प्रवाह उल्टा और विकृत हो जाता है।

सकारात्मक सोच रखकर लगातार कर्म करते रहना ही हमारे हाथ में है और यही जीवन जीने का सही नजरिया भी है। उम्मीद का दामन कभी मत छोड़िए क्योंकि जब तक साँस है तब तक आस है।

वह कौन सी बातें हैं जिन्हें करने से हमें बचना चाहिए?

1- बस एक बार कह के कोई भी गलत काम जैसे शराब, नशा, जुआ इत्यादि को ट्राई नहीं करना चाहिए क्योंकि इनकी लत लगते देर नहीं लगती।

2- सोशल नेटवर्क साइट्स पर खुद की मनोस्थिति और हाल को खासकर जब आप दुखी हो, शेयर नहीं करना चाहिए, लाइक से ज्यादा कुछ नहीं मिलेगा और इससे आपके हालात नहीं बदलेंगे।

3- कुछ करने से पहले ढिंढोरा नहीं पीटना चाहिए, और करने के बाद उसका दिखावा नहीं करना चाहिए।

4- रिश्तों में छोटी छोटी बातों को दिल से कभी नहीं लगाना चाहिए। अपनों को माफ़ कर कर देना चाहिए या कम से कम रिश्तों में सुलह की गुंजाइश हमेशा छोड़ देनी चाहिए।

5- सिर्फ लोगों को प्रभावित करने के लिए कर्ज लेकर मह़ंगे गैजेट या अन्य चीजों को नहीं खरीदना चाहिए, बाद में आपको इसके लिए पछताना पड़ सकता है।

6- अपने बीते हुए कल को हर किसी के साथ साझा नहीं करना चाहिए एेसा करके कुछ देर के लिए आप लोगों की सहानुभूति प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन लंबे समय में यह आपको दूसरों की नजरों में कमजोर साबित कर देगा।

7- किसी को बिना पूछे कभी नसीहत नहीं देनी चाहिए केवल मांगने पर सलाह दीजिए, याद रखिए दुर्लभ चीजें अधिक कीमती होती हैं।

8- नकारात्मक विचार वाले लोगों का साथ नहीं करना चाहिए, निगेटिव थिंकिंग जहर है।

9- किसी को खुद से छोटा या कमज़ोर नहीं समझना चाहिए औत किसी के भविष्य का फैसला उसके वर्तमान को देखकर नहीं सुनाना चाहिए।

10- जिस काम को करने मन न माने उसे नहीं करना चाहिए।

इस दुनिया के सबसे आश्चर्यजनक सच क्या हैं ?

1- हम इस दुनिया में पैदा हुए हैं। इस संसार को चलाने वाला ही सबसे बड़ा आश्चर्य है । क्योंकि वह न तो दिखाई देता है और न ही सुनाई देता है पर सारा संसारर उस पर अटूट विश्वास करता है। वह एक है , पर सब उसे अपने ही नजरिये से देखते हैं।

2- हम लोग बाहर की दुनिया में काफी जानकारी रखते हैं तथा हमारे विश्वद्यालय इस विषय में उपाधियां भी प्रदान करते हैं जो सबूत हैं कि हमने किसी विषय पर अच्छा अध्ययन कर रखा है। पर हम लोग जब अपने बारेे में विचार करते हैं कि हम कौन हैं,क्या हैं…. तो कोई भी प्रमाण हमें स्थायी शांति नहीं दे पाता। इस विषय पर बेचैन कोई भी विश्वद्यालय उपाधि नहीं देता है। ये एक बड़ा आश्चर्य है।

3- जीव-जंतुओं, वनस्पतियों की लाखों प्रजातियां कैसे उत्पन्न हुईं, कैसे अपनी विशेष आकृति, स्वभाव, गुण बनाये रखते हुए अपना सरंक्षण, संवर्धन कर रही हैं, कैसे नियंत्रित हो रही हैं, ये सब बातें आश्चर्यचकित कर देती हैं।

4- यह बड़ा आश्चर्यजनक तथ्य है कि हम रोज लोगों को मरते हुए और सबकुछ छोड़ कर जाते हुए देखते है फिर भी इस सपने के समान संसार के मोह में ग्रस्त रहते है और खुद को अविनाशी समझते हुए जीवन जीते हैं।

5- किसी की कामयाबी में खुश होना अगर आप किसी की खुशी में खुश होते है तो ज़ाहिर है के लोग आपको देख कर हैरान होंगे और मेरे हिसाब से यह एक आश्चये की बात है।

6- अपने बच्चो को सबसे अधिक चाहना फिर भी पर्यावरण को उनके लिए सुरक्षित न रखना। इस दुनिया के सबसे आश्चर्यजनक सच में से एक है।

7- इन्सान के भेष में जंगली जानवर से मुलाकात होना इस दुनिया के सबसे आश्चर्यजनक सच में से एक है।

8- जीवन की इतनी मुश्किलों और संघर्षों के बावजूद आप और मैं जीवित है बिना किसी बाह्य शक्ति और सहायता के यह भी कम आश्चर्यजनक नहीं है।